Loading ...
Sorry, an error occurred while loading the content.
 

Ibadat woh daulat hai jo chipane par aur badti hai.............

Expand Messages
  • Guru ka Simran
    Radha soami ji Dhyan karte hai toh nindra haavi ho jaati hai, prathna karte hai toh pradarshan adhik ho jata hai aur sewa karte hai toh ahenkar aa jaata
    Message 1 of 1 , Jul 1, 2010
      "Radha soami ji"

      Dhyan karte hai toh nindra haavi ho jaati hai, prathna karte hai toh pradarshan adhik ho jata hai aur sewa karte hai toh ahenkar aa jaata hai..yeh saari janjhat isiliye hoti hai kyuki mann apna kaam dikha jaata hai

      kai baar hum bhale kaam karte hai lekin usmei burai ke sheete (छींटें) pad jaate hai. Puja karte hai toh paakhand adhik ho jaata hai, dhyan karte hai toh nindra haavi ho jaati hai tatha prathna karte hai toh pardarshan adhik ho jaata hai aur sewa karte hai toh ahenkar ka parvesh ho jaata hai ...

      Kabhi janne ki koshish ki hai ki yeh janjhat kyu hoti hai ? kyuki mann apna kaam dikha jaata hai.

      Isiliye hum karte kuch hai aur hota kuch hai...Mann ka khel dharam vishesh mei alag ho aisa nahi hai....koi bhi jaati ho, mann ki maar ke jaisi hi padti hai...


      Haazi mohammad naam ke fakhir chipkar namaz padte the...unka naam haazi isiliye tha kyuki veh kai baar haz kar chuke the....

      Gazab ke namazi the..Dhire-dhire log kehne lage yeh apne aap ko bohat chipate hai ! jarur koi gadbad hai...

      Ek din unse kisi shishya ne pucha to unhone kuch samay pehle dekhe huve ek khawab ka jikr kia.....Sapne mei veh mar gay aur unhe raaste mei khuda ka ek doot mil gaya ....Jis vyakti ne dharti par jo karya kia, vah doot uske anusaar usse swarg- nark mei bej raha tha....Haazi ko dekhkar unse unhne nark ke raste ravana kar dia...Haazi ne kaha - kya meri haz yaatra bekaar gay.

      Vah doot bola - tumne akele mei kam , logo ke saamne jyada namaz padi....Lihaza tumhari nazar uper wale par kam, niche walo par jyada thi....Isiliye haz yaatra ka natiza sifar huva...us khwab ke baad haazi samaj gaya ki ibadat vah daulat hai jisse chipaya jay toh aur badti hai..........


      Kai satsangi bhai behen yeh sawal karte hai ki aise kaise daya meher batane se kam ho sakti hai toh un sab bhai behen k liye isse acha jawab ho hi nahi sakta......sach mei jab hum kuch bhi dusro ke saamne karte hai voh 50 % dikhava hi hota hai ..Yehi baat satsang mei bhi samjai jaati hai jitna ho sake hajam kare......

      sangat ji agar koi aap se b hi puch le ki hum kyu apni daya meher chupay toh unko yeh choti si story bata dijiye ga un ke sare sawalo ka jawab unko mil jayega

      radha soami ji



      =================================================================
      "इबादत वह दौलत है जो छिपाने पर और बढ़ती है"

      ध्यान करते हैं तो निद्रा हावी हो जाती है, प्रार्थना करते हैं तो प्रदर्शन अधिक हो जाता है और सेवा करते हैं तो अहंकार आ जाता है। ये सारी झंझटें इसलिए होती हैं क्योंकि मन अपना काम दिखा जाता है।
      कई बार हम भले काम करते हैं लेकिन उसमें बुराई के छींटें पड़ जाते हैं। पूजा करते हैं तो पाखंड अधिक हो जाता है, ध्यान करते हैं तो निद्रा हावी हो जाती है तथा प्रार्थना करते हैं तो प्रदर्शन अधिक हो जाता है और सेवा करते हैं तो अहंकार का प्रवेश हो जाता है। कभी जानने की कोशिश की है कि ये सारी झंझटें क्यों होती हैं? क्योंकि मन अपना काम दिखा जाता है।
      इसीलिए हम करते कुछ हैं और होता कुछ है। मन का खेल धर्म विशेष में अलग हो ऐसा नहीं है। कोई भी जाति हो, मन की मार एक जैसी ही पड़ती है। हाजी मोहम्मद नाम के फकीर छिपकर नमाज पढ़ते थे। उनका नाम हाजी इसलिए था क्योंकि वे कई बार हज कर चुके थे। गजब के नमाजी थे। धीरे-धीरे लोग कहने लगे ये अपने आप को बहुत छिपाते हैं। जरूर कोई गड़बड़ है।

      एक दिन उनसे किसी शिष्य ने पूछा तो उन्होंने कुछ समय पहले देखे हुए एक ख्वाब का जिक्र किया। सपने में वे मर गए और उन्हें रास्ते में खुदा का एक दूत मिल गया। जिस व्यक्ति ने धरती पर जो कार्य किया, वह दूत उसके अनुसार उसे स्वर्ग अथवा नर्क में भेज रहा था। हाजी को देखकर उसने उन्हें नर्क के रास्ते रवाना कर दिया। हाजी ने कहा- क्या मेरी हज यात्रा बेकार गई।

      वह दूत बोला- तुमने अकेले में कम, लोगोंे के सामने ज्यादा नमाज पढ़ी। लिहाजा तुम्हारी नजर ऊपर वाले पर कम, नीचे वालों पर ज्यादा थी। इसीलिए हजयात्रा का नतीजा सिफर हुआ। उस ख्वाब के बाद हाजी समझ गए कि इबादत वह दौलत है जिसे छिपाया जाए तो और बढ़ती है।

      कई  सत्संगी  भाई  बेहेन  यह  सवाल  करते  है  की  ऐसे  कैसे    दया 
      मैहर  बताने  से  कम  हो  सकती  है  तोह  उन  सब  भाई  बेहेन  के  लिए 
      इससे  अछा जवाब  हो  ही  नहीं  सकता ......सच  में  जब  हम  कुछ  भी  दुसरो  के  सामने  करते  है  वोह  50 % दिखावा  ही  होता  है  .........येही  बात  सत्संग  में  भी 
      सुम्जाई   जाती  है  जितना  हो  सके  हजम करे ......



      संगत  जी  अगर  कोई  आप  से  भी  पुच  ले  की  हम  क्यों  अपनी  दया 
      मैहर  छुपाय  तोह  उनको  यह  छोटी  सी  कहानी  बता  दीजिये  गा  उन  के सारे  सवालो  का  जवाब  उनको  मिल  जायेगा



      राधा  स्वामी  जी











      [Non-text portions of this message have been removed]
    Your message has been successfully submitted and would be delivered to recipients shortly.