Loading ...
Sorry, an error occurred while loading the content.

Re: [fukuoka_farming] translated - Fwd: प्रा क्रतिक खेती (EDITED)

Expand Messages
  • Ruthie Aquino
    Hello there, This is a very good thought, thanks. Modesty is not a popular word nowadays... best RUTHIE 2011/3/2 arunk sharma ...
    Message 1 of 2 , Mar 2, 2011
    • 0 Attachment
      Hello there,
      This is a very good thought, thanks. Modesty is not a popular word


      2011/3/2 arunk sharma <arun.k_sharma@...>

      > Sir,
      > I was witness of the Ratlam meeting and got god opportunity to
      > discuss about natural farming with respected Shri Raju Titus ji. However, I
      > find that although this is the simplest method and this is the climax of
      > sustainable farming but before that a farmer who wan to transform from
      > chemical to natural farming needs lot of knowledge , experience, and time
      > to change mind set specially when farmer is doing farming for market and
      > consumers other than him .Modesty rather than rigidity can be very helpful
      > in this transformation.
      > Sincerely
      > Arun K.sharma
      > Scinetist-Organic farming ( with local input optimisation only, no external
      > input)
      > Jodhpur-Rajasthan,India
      > --- On Wed, 2/3/11, Sumant Joshi <sumant_jo@...> wrote:
      > From: Sumant Joshi <sumant_jo@...>
      > Subject: [fukuoka_farming] translated - Fwd: प्राक्रतिक खेती (EDITED)
      > To: "fukuoka farming" <fukuoka_farming@yahoogroups.com>
      > Date: Wednesday, 2 March, 2011, 2:43 PM
      > Natural Farmingreport on the two day meet cum workshop on 27th and 28th Feb
      > 2011Ratlam (a district in Madhaya Pradesh)The Pirodia family and friends
      > organized a two day meeting cum workshop at Ratlam on Natural farming. I and
      > Mr Subhash Sharma, two Natural farmers from India, were invited as chief
      > guests to speak on the subject. Farmers and other important people also
      > attended the meet. the main aim was to explain problems associated with
      > failure of farming based on tilling and artificial fertilizers and
      > pesticides and also to explain the improtance of no-till natural
      > farming.Most people in NF are of the opinion that it is the artificial
      > fertilizers and pesticides which cause the land to degrade and if we remove
      > these, it should be enough to improve it. we forget that traditional Indian
      > farmers used to leave the degraded tilled land fallow for a period of time
      > and the fertility would recover. The Rishi Panchami festival reminds us of
      > this. when we
      > till the land, it causes the soil to become like a fine paste during rains
      > which prevents water percolating into the soil. Ergo, it just flows away
      > and takes with it tons of good natural fertile soil.this causes farms to
      > become weak. they neither have good natural fertilizer and nor do they have
      > water. slowly farming is becoming a loss making proposition. farmers,
      > whether small or big are all in trouble which in turn means the world is in
      > trouble, financially, environmentally and socially. the Malwa region here is
      > suffering from drought like conditions.The water table in Ratlam has fallen
      > below 1000 feet !! weak farmlands are making weak food using artificial
      > fertilizers and pesticides. this in turn means we have poison in our daily
      > bread.The two day workshop was planned to teach farmers chemicals free
      > farming. 5 acres of naturally farmed land was demonstrated along with
      > surrounding farms which were using scientific chemical farming so people
      > could see for themselves. tilling based organic farming and also chemical
      > farming compared very poorly with no-till NF in terms use of water,
      > fertilizers and bio-diversity.
      > The food produced is also of very poor nutritional quality.In NF there is
      > no violence whereas in till based farming there is violence against the
      > micro-organisms living in the soil. tilling causes the stored natural
      > fertilizer to turn into carbon dioxide which is one of the causes of global
      > warming. since rain water isn't allowed to percolate into the soil,
      > alternate drought and flooding takes place. On the other hand rainfall
      > itself is showing a reducing trend. no-till farming also requires 80% lower
      > capital inputs. NF is easy and anyone including little kids can do it.
      > broadcasting seeds and covering them with last year's crop residue is
      > enough for a good harvest. till based farming isn't possible without
      > machines whereas no till NF just needs simple hand operated farming tools.
      > it also affords year long income to labourers. no-till farming is friendly
      > towards shady trees whereas till based farming is notoriously anti-tree. we
      > aren't talking of allowing cows to live, we also want elephants and other
      > living bengs to live on this Earth since it is their right. NF is best to
      > create a green world around us.101 year old Mr Champalal Pirodia told
      > everyone present that even he can do this type of farming by just
      > broadcasting seed on the ground and thats how I started. NF is based on
      > truth and non-violence. we can make farming independent of (fuel) oil
      > slavery and stop farmer suicides.Mr Mohanlalji Pirodia is a practicing NF
      > farmer in Ratlam. His brother Mr Mangal Singhji said "we are Jain Bania
      > (shopkeeper) caste
      > people. we dislike violence and loss which is why we have adopted NF". he
      > has added another 10 acres to NF. now he is has 15 acres under NF. his other
      > Jain brothers have agreed to start NF.A educated young man from Rajasthan
      > was so impressed that he vowed to go back to his native village and start
      > NF. "I have seen so much contentment and also money in NF which is not there
      > in other type of work. that is why I am going back to my roots in my
      > village".many tribal farmers who attended the workshop said "Mr Mohanlal had
      > broadcast wheat in our farm and we expect 15 quintals (1 quintal=100 kg) per
      > half acre. from now on we will use only NF. we are grateful to him". what
      > many saints and scientists have failed to do, these simple people have
      > managed to do.the workshop also had Mr Subhash Sharma who spoke of growing
      > vegetables using NF techniques. he does not overcharge for his naturally
      > grown vegetables and yet is making lots of profit part of which he
      > distributes as bonus amongst his labour. he loves nature and everyone
      > showed their appreciation for his attitude.a few so-called organic farmers
      > were unhappy with NF since they were getting good profits in the name of
      > organic produce. But the inputs in NF are far lower than chemical farming
      > then why should it be more expensive?
      > All in all, the workshop was a big success and everyone was able to solve
      > all their doubts.
      > thank you
      > Raju Titus
      > Sent from my BSNL landline B-fone
      > Warm regards,
      > Sumant Joshi
      > Tel - 09370010424, 0253-2361161
      > --- On Wed, 2/3/11, Raju Titus <rajuktitus@...> wrote:
      > From: Raju Titus <rajuktitus@...>
      > Subject: Fwd: प्राक्रतिक खेती (EDITED)
      > To: "sumant joshi" <sumant.jo@...>, "Yugandhar S." <
      > s.yugandhar@...>
      > Date: Wednesday, 2 March, 2011, 12:36 AM
      > ---------- Forwarded message ----------
      > From: Raju Titus <rajuktitus@...>
      > Date: 2011/3/1
      > Subject: प्राक्रतिक खेती (EDITED)
      > To: editorkrb@..., sanjay pirodia <pirodia.furniture@...>,
      > Supress Indore <sps2005@...>, ofai north <ofai.north@...>,
      > Vineet kumar Pandey <vineetkumarpandey22@...>, vidhyadas <
      > vidhyadas@...>, VOICE OF AMERICA <Hindi@...>, BBC Hindi
      > letter <hindi.letters@...>, bharat mansata <bharatmansata@...>,
      > "P.Bapu" <icra@...>, "R.N.Berwa" <rnberwa@...>
      > प्राक्रतिक खेती
      > दो दिवसीय सम्मलेन की रिपोर्ट 27-28 फरवरी 2011
      > रतलाम
      > विगत दिनों मंगल वाटिका में
      > प्राक्रतिक खेती से
      > सम्बन्धित एक दो दिवसीय सम्मलेन पिरोदिया परिवार और उनके साथियों के द्वारा
      > आयोजित किया गया था जिस में भारत में
      > प्राक्रतिक खेती के प्रणेता श्री राजू टाइटस और यवतमाल के
      > नेसर्गिक खेती के प्रसिद्ध श्री सुभाषजी शर्मा मुख्य
      > अतिथि के रूप में बुलाये गए थे. इस
      > सम्मेलन में अनेक गणमान्य लोगों के अलावा दूर दूर से किसान आये थे. यह सम्मलेन
      > मूल रूप से
      > जुताई आधारित जैविक और अजैविक खेती के उखड़ते कदमो
      > से उत्पन्न समस्या से निबटने के लिए बिना जुताई से की जाने वाली प्राक्रतिक
      > खेती के बढ़ते मजबूत
      > कदमो को समझाने के लिए बुलाई गयी थी.
      > अधिकतर लोग ये समझते हैं की
      > खेती में उपयोग में आने वाले रसायनों के कारण जमीन ख़राब हो रही है और यदि
      > रसायन मुक्त
      > खेती की जाये तो समस्या का समाधान हो जायेगा. ये भूल है असल में भारतीय
      > प्राचीन
      > परम्परागत खेती में
      > अनेक उदाहरन मिलते हैं जब किसान जुताई से ख़राब होती खेती को सुधारने के लिए
      > जमीन को पड़ती कर देते
      > थे जिस से वो सुधर जाती थी. ऋषि पंचमी का पर्व हमें इसी बात की याद दिलाता है.
      > जुताई
      > करने से बखरी बारीक मिटटी बरसात के पानी से कीचड़ में तब्दील हो जाती है
      > जो पानी जमीन के अंदर जाने नहीं देती है इस लिए पानी तेजी से बहता है और
      > टनों जैविक खाद को बहा कर ले जाता है. इस कारण खेत कमजोर हो जाते हैं और खेत
      > भूके और प्यासे रह जाते हैं इस लिए खेती घाटे को सौदा बन रही है. हर
      > किसान चाहे वो छोटा हो या बड़ा मुसीबत में है तथा इस कारण पूरा विश्व आर्थिक
      > ,पर्यावरण और सामाजिक समस्याओं से जूझ
      > रहा है. मालवा में पानी
      > का अकाल पड़ा है.
      > रतलाम का जल स्तर १००० फीट से अधिक नीचे चला गया है. कमजोर
      > खेतों में खाद और दवाओं के बल पर कमजोर फसल ही पैदा हो रही, हमारी रोटी में
      > जहर घुल गया है इस लिए केंसर जैसी बीमारियाँ पनप रही हैं.
      > इसी लिए बिना जुताई ,खाद ,और दवाई से होने वाली खेती का फार्म प्रदर्शन के
      > साथ ये दो दिन की कार्य शाला आयोजित की गयी थी. यहाँ वैज्ञानिक जैविक और
      > अजैविक खेती के बीच करीब ५ एकड़ में बिना जुताई की प्राक्रतिक खेती में
      > गेंहू को उगा कर बताया गया है जिस से सभी लोग तीनो खेती की विधियों के बीच
      > तुलनात्मक अध्यन कर स्वं जाने की क्या अंतर है. जुताई आधारित दोनों जैविक
      > और अजैविक खेती की विधियों में एक और जहाँ जल,खाद और जैव विवधताओं का छरण
      > चरम सीमा पर है वही उत्पादकता ,और गुणवत्ता का अभाव है. वहीँ बिना जुताई
      > की प्राक्रतिक खेती में खाद ,पानी और जैव विवधताओं का छरण शुन्य है जबकि
      > उत्पादन करीब २ तीनो में सामान्य है.
      > इस के अलावा प्राकृतिक खेती में हिंसा बिलकुल
      > नहीं है जबकि जुताई से सबसे अधिक हिंसा होती है. जमीन में रहने वाले तमाम
      > जीव जंतु, सूक्ष्म जीवाणु पेड़ पोधों की इस में हिंसा होती है. जमीन की
      > जुताई करने से जमीन में जमा जैविक खाद (कार्बन), co2 में तब्दील हो जाती है
      > आसमान में जमा होकर धरती को कम्बल के समान ढँक लेती है जिस से धरती पर का
      > तापमान दिनों दिन बढ़ रहा है. बरसात का पानी जमीन में ना जाकर बह जाने से
      > एक और जहाँ सूखे और बाढ़ की समस्या बनी है वहीँ बरसात कम होने लगी है. बिना
      > जुताई की खेती के कुदरती अनाज पैदा करने में ८० % लागत की कम आती है. इस
      > खेती को करना बहुत आसान है बच्चे और महिलाये भी इसे आसानी से कर सकते हैं.
      > केवल बीजों को जमीन पर फेंक कर पिछली फसल के अवशेषों से उसे ढंकने भर से
      > ये खेती हो जाती हो और उत्पादन में कोई कमी नहीं आती है. एक और जहाँ जुताई
      > आधारित खेती अब मशीनो के बिना संभव नहीं है ये खेती मात्र हंसिये के बल पर
      > आसानी से हो जाती है जिस से खेती हर मजदूर को साल भर रोजगार मिलता है. बिना
      > जुताई की खेती की दोस्ती छाया से रहती है इस लिए इसे आसानी से पेडों के
      > साथ किया जाता है .मशीन से जुताई करने से किसान पेडों का दुश्मन हो गया है
      > इस से गोवंश भी लुप्त हो रहा है इसे बचाना है तो बिना जुताई की प्राक्रतिक
      > करना ही होगा यह खेती आसानी से चारे के पेडों के साथ की जाती है. हम केवल
      > एक गाय की बात नहीं करते हम तो ऐसा वातावरण चाहते हैं जिसमे हाथी भी पल
      > जाएँ. हरयाली पैदा करने का ये सर्वोत्तम उपाय है.
      > इस कार्य शाला में पधारे १०१ साल के
      > स्वतंत्रता सेनानी माननीय श्री चम्पालालजी पिरोदिया ने कहा में भी इस खेती
      > को कर सकता हूँ बीजों को फेंक कर मैने इसकी शुरुवाद की है. ये खेती सत्य और
      > अहिंसा पर आधारित है सभी को करने चाहिए. इस को कर हम तेल की गुलामी से
      > खेती को मुक्त कर सकते हैं. किसानो की आत्म हत्या को रोक सकते हैं.
      > श्री मोहन लालजी पिरोदिया जो इस खेती के रतलाम में
      > प्रणेता है के भाई श्री मंगल्सिंग्जी ने कहा की हम जैनी बनिया हैं. घाटे
      > और हिंसा को बर्दास्त नहीं कर सकते हैं इस लिए इस खेती को अपनाया है.
      > उन्होंने १० एकड़ जमीन और इस में दान कर दी है इस प्रकार उनकी कुल १५ एकड़
      > जमीन अब इस में लग गयी है.अनेक जैनी बंधुओं ने भी इनकी तरह खेती करने का
      > वायदा किया है.
      > राजस्थान से पधारे एक पढ़े लिखे नव युवक ने इस
      > कार्य शाला से प्रेरित होकर गाँव वापस जाकर खेती करने का प्रण ले लिया है.
      > उनका कहना है जितना सुकून और पैसा मुझे इसमें दिख रहा है है वो और किसी काम
      > में नहीं है. इस लिए वे वापस गाँव जा रहा हूँ.
      > अनेक आदिवासी किसान जो आस पास के गाँवो से आये थे
      > ने बताया की श्री मोहनलालजी ने हमारे खेतों में गेंहूं फेंका था वो बहुत
      > अच्छा है हमें १५ क्विंटल /बीघा फसल की उम्मीद है. इस लिए अब इसी तरह गेंहू
      > बोयेंगे.हम सभी के प्रति अपना आभार मानते हैं. अनेक साधू संतों,जन
      > प्रतिनिधियों और वैज्ञानिको ने जो नहीं किया वो इन लोगों ने कर दिखाया है.
      > इस कार्य शाला में पधारे श्री सुभाषजी शर्मा जो अनेक सालों से रसायन मुक्त
      > सब्जी की खेती कर रहे हैं ने भी किसानो को खेती करने के गुर सिखाये .वे अपने
      > उत्पादों की अधिक कीमत नहीं लेते हैं फ़िर भी भर पूर मुनाफा कमाते हैं और
      > मजदूरों को बोनस बांटते हैं.वे प्रक्रति प्रेमी हैं सभी ने उनको बहुत सराहा है.
      > कुछ नकली जैविक खेती के किसान और विक्रेता इस खेती
      > से असंतुस्ट नजर आये क्यों की वे अपने माल का ऊँचा दाम पा रहे हैं.
      > प्राकृत असली जैविक है. जो रासायनिक से सस्ता रहता है. इस में मिलावट और
      > नकली की कोई सम्भावना नहीं है. जब लागत कम है तो माल महंगा क्यों?
      > कुल मिलाकर कम लोगों के बीच की गयी कार्य शाला बहुत ही सफल रही जिस से सभी को
      > अपनी समस्याओं का निराकरण करने का मोका मिला.धन्यवादराजू टाइटस
      > प्राकृतिक खेती के किसान
      > --
      > --
      > Raju Titus. Hoshangabad. 461001.India.
      > +919179738049.
      > http://picasaweb.google.com/rajuktitus<
      > http://picasawebalbum.google.com/rajuktitus>
      > fukuoka_farming yahoogroup
      > --
      > Raju Titus. Hoshangabad. 461001.India.
      > +919179738049.
      > http://picasaweb.google.com/rajuktitus<
      > http://picasawebalbum.google.com/rajuktitus>
      > fukuoka_farming yahoogroup
      > [Non-text portions of this message have been removed]
      > [Non-text portions of this message have been removed]

      [Non-text portions of this message have been removed]
    Your message has been successfully submitted and would be delivered to recipients shortly.