Loading ...
Sorry, an error occurred while loading the content.

Re: [fukuoka_farming] translated - Fwd: प्रा क्रतिक खेती (EDITED)

Expand Messages
  • Ruthie Aquino
    Thankyou for translating. best regards RUTHIE 2011/3/2 Sumant Joshi ... [Non-text portions of this message have been removed]
    Message 1 of 9 , Mar 2 2:05 AM
    • 0 Attachment
      Thankyou for translating.

      best regards
      RUTHIE

      2011/3/2 Sumant Joshi <sumant_jo@...>

      >
      >
      > Natural Farmingreport on the two day meet cum workshop on 27th and 28th Feb
      > 2011Ratlam (a district in Madhaya Pradesh)The Pirodia family and friends
      > organized a two day meeting cum workshop at Ratlam on Natural farming. I and
      > Mr Subhash Sharma, two Natural farmers from India, were invited as chief
      > guests to speak on the subject. Farmers and other important people also
      > attended the meet. the main aim was to explain problems associated with
      > failure of farming based on tilling and artificial fertilizers and
      > pesticides and also to explain the improtance of no-till natural
      > farming.Most people in NF are of the opinion that it is the artificial
      > fertilizers and pesticides which cause the land to degrade and if we remove
      > these, it should be enough to improve it. we forget that traditional Indian
      > farmers used to leave the degraded tilled land fallow for a period of time
      > and the fertility would recover. The Rishi Panchami festival reminds us of
      > this. when we
      > till the land, it causes the soil to become like a fine paste during rains
      > which prevents water percolating into the soil. Ergo, it just flows away
      > and takes with it tons of good natural fertile soil.this causes farms to
      > become weak. they neither have good natural fertilizer and nor do they have
      > water. slowly farming is becoming a loss making proposition. farmers,
      > whether small or big are all in trouble which in turn means the world is in
      > trouble, financially, environmentally and socially. the Malwa region here is
      > suffering from drought like conditions.The water table in Ratlam has fallen
      > below 1000 feet !! weak farmlands are making weak food using artificial
      > fertilizers and pesticides. this in turn means we have poison in our daily
      > bread.The two day workshop was planned to teach farmers chemicals free
      > farming. 5 acres of naturally farmed land was demonstrated along with
      > surrounding farms which were using scientific chemical farming so people
      > could see for themselves. tilling based organic farming and also chemical
      > farming compared very poorly with no-till NF in terms use of water,
      > fertilizers and bio-diversity.
      > The food produced is also of very poor nutritional quality.In NF there is
      > no violence whereas in till based farming there is violence against the
      > micro-organisms living in the soil. tilling causes the stored natural
      > fertilizer to turn into carbon dioxide which is one of the causes of global
      > warming. since rain water isn't allowed to percolate into the soil,
      > alternate drought and flooding takes place. On the other hand rainfall
      > itself is showing a reducing trend. no-till farming also requires 80% lower
      > capital inputs. NF is easy and anyone including little kids can do it.
      > broadcasting seeds and covering them with last year's crop residue is
      > enough for a good harvest. till based farming isn't possible without
      > machines whereas no till NF just needs simple hand operated farming tools.
      > it also affords year long income to labourers. no-till farming is friendly
      > towards shady trees whereas till based farming is notoriously anti-tree. we
      > aren't talking of allowing cows to live, we also want elephants and other
      > living bengs to live on this Earth since it is their right. NF is best to
      > create a green world around us.101 year old Mr Champalal Pirodia told
      > everyone present that even he can do this type of farming by just
      > broadcasting seed on the ground and thats how I started. NF is based on
      > truth and non-violence. we can make farming independent of (fuel) oil
      > slavery and stop farmer suicides.Mr Mohanlalji Pirodia is a practicing NF
      > farmer in Ratlam. His brother Mr Mangal Singhji said "we are Jain Bania
      > (shopkeeper) caste
      > people. we dislike violence and loss which is why we have adopted NF". he
      > has added another 10 acres to NF. now he is has 15 acres under NF. his other
      > Jain brothers have agreed to start NF.A educated young man from Rajasthan
      > was so impressed that he vowed to go back to his native village and start
      > NF. "I have seen so much contentment and also money in NF which is not there
      > in other type of work. that is why I am going back to my roots in my
      > village".many tribal farmers who attended the workshop said "Mr Mohanlal had
      > broadcast wheat in our farm and we expect 15 quintals (1 quintal=100 kg) per
      > half acre. from now on we will use only NF. we are grateful to him". what
      > many saints and scientists have failed to do, these simple people have
      > managed to do.the workshop also had Mr Subhash Sharma who spoke of growing
      > vegetables using NF techniques. he does not overcharge for his naturally
      > grown vegetables and yet is making lots of profit part of which he
      > distributes as bonus amongst his labour. he loves nature and everyone
      > showed their appreciation for his attitude.a few so-called organic farmers
      > were unhappy with NF since they were getting good profits in the name of
      > organic produce. But the inputs in NF are far lower than chemical farming
      > then why should it be more expensive?
      > All in all, the workshop was a big success and everyone was able to solve
      > all their doubts.
      > thank you
      > Raju Titus
      > Sent from my BSNL landline B-fone
      >
      > Warm regards,
      >
      > Sumant Joshi
      > Tel - 09370010424, 0253-2361161
      >
      > --- On Wed, 2/3/11, Raju Titus <rajuktitus@...> wrote:
      >
      > From: Raju Titus <rajuktitus@...>
      > Subject: Fwd: प्राक्रतिक खेती (EDITED)
      > To: "sumant joshi" <sumant.jo@...>, "Yugandhar S." <
      > s.yugandhar@...>
      > Date: Wednesday, 2 March, 2011, 12:36 AM
      >
      > ---------- Forwarded message ----------
      > From: Raju Titus <rajuktitus@...>
      >
      > Date: 2011/3/1
      > Subject: प्राक्रतिक खेती (EDITED)
      > To: editorkrb@..., sanjay pirodia <pirodia.furniture@...>,
      > Supress Indore <sps2005@...>, ofai north <ofai.north@...>,
      > Vineet kumar Pandey <vineetkumarpandey22@...>, vidhyadas <
      > vidhyadas@...>, VOICE OF AMERICA <Hindi@...>, BBC Hindi
      > letter <hindi.letters@...>, bharat mansata <bharatmansata@...>,
      > "P.Bapu" <icra@...>, "R.N.Berwa" <rnberwa@...>
      >
      > प्राक्रतिक खेती
      >
      >
      > दो दिवसीय सम्मलेन की रिपोर्ट 27-28 फरवरी 2011
      >
      >
      > रतलाम
      >
      > विगत दिनों मंगल वाटिका में
      > प्राक्रतिक खेती से
      > सम्बन्धित एक दो दिवसीय सम्मलेन पिरोदिया परिवार और उनके साथियों के द्वारा
      > आयोजित किया गया था जिस में भारत में
      > प्राक्रतिक खेती के प्रणेता श्री राजू टाइटस और यवतमाल के
      > नेसर्गिक खेती के प्रसिद्ध श्री सुभाषजी शर्मा मुख्य
      > अतिथि के रूप में बुलाये गए थे. इस
      > सम्मेलन में अनेक गणमान्य लोगों के अलावा दूर दूर से किसान आये थे. यह सम्मलेन
      > मूल रूप से
      > जुताई आधारित जैविक और अजैविक खेती के उखड़ते कदमो
      > से उत्पन्न समस्या से निबटने के लिए बिना जुताई से की जाने वाली प्राक्रतिक
      > खेती के बढ़ते मजबूत
      > कदमो को समझाने के लिए बुलाई गयी थी.
      >
      > अधिकतर लोग ये समझते हैं की
      > खेती में उपयोग में आने वाले रसायनों के कारण जमीन ख़राब हो रही है और यदि
      > रसायन मुक्त
      > खेती की जाये तो समस्या का समाधान हो जायेगा. ये भूल है असल में भारतीय
      > प्राचीन
      > परम्परागत खेती में
      > अनेक उदाहरन मिलते हैं जब किसान जुताई से ख़राब होती खेती को सुधारने के लिए
      > जमीन को पड़ती कर देते
      > थे जिस से वो सुधर जाती थी. ऋषि पंचमी का पर्व हमें इसी बात की याद दिलाता है.
      > जुताई
      > करने से बखरी बारीक मिटटी बरसात के पानी से कीचड़ में तब्दील हो जाती है
      > जो पानी जमीन के अंदर जाने नहीं देती है इस लिए पानी तेजी से बहता है और
      > टनों जैविक खाद को बहा कर ले जाता है. इस कारण खेत कमजोर हो जाते हैं और खेत
      > भूके और प्यासे रह जाते हैं इस लिए खेती घाटे को सौदा बन रही है. हर
      > किसान चाहे वो छोटा हो या बड़ा मुसीबत में है तथा इस कारण पूरा विश्व आर्थिक
      > ,पर्यावरण और सामाजिक समस्याओं से जूझ
      > रहा है. मालवा में पानी
      > का अकाल पड़ा है.
      >
      > रतलाम का जल स्तर १००० फीट से अधिक नीचे चला गया है. कमजोर
      > खेतों में खाद और दवाओं के बल पर कमजोर फसल ही पैदा हो रही, हमारी रोटी में
      > जहर घुल गया है इस लिए केंसर जैसी बीमारियाँ पनप रही हैं.
      > इसी लिए बिना जुताई ,खाद ,और दवाई से होने वाली खेती का फार्म प्रदर्शन के
      > साथ ये दो दिन की कार्य शाला आयोजित की गयी थी. यहाँ वैज्ञानिक जैविक और
      > अजैविक खेती के बीच करीब ५ एकड़ में बिना जुताई की प्राक्रतिक खेती में
      > गेंहू को उगा कर बताया गया है जिस से सभी लोग तीनो खेती की विधियों के बीच
      > तुलनात्मक अध्यन कर स्वं जाने की क्या अंतर है. जुताई आधारित दोनों जैविक
      > और अजैविक खेती की विधियों में एक और जहाँ जल,खाद और जैव विवधताओं का छरण
      > चरम सीमा पर है वही उत्पादकता ,और गुणवत्ता का अभाव है. वहीँ बिना जुताई
      > की प्राक्रतिक खेती में खाद ,पानी और जैव विवधताओं का छरण शुन्य है जबकि
      > उत्पादन करीब २ तीनो में सामान्य है.
      >
      > इस के अलावा प्राकृतिक खेती में हिंसा बिलकुल
      > नहीं है जबकि जुताई से सबसे अधिक हिंसा होती है. जमीन में रहने वाले तमाम
      > जीव जंतु, सूक्ष्म जीवाणु पेड़ पोधों की इस में हिंसा होती है. जमीन की
      > जुताई करने से जमीन में जमा जैविक खाद (कार्बन), co2 में तब्दील हो जाती है
      > आसमान में जमा होकर धरती को कम्बल के समान ढँक लेती है जिस से धरती पर का
      > तापमान दिनों दिन बढ़ रहा है. बरसात का पानी जमीन में ना जाकर बह जाने से
      > एक और जहाँ सूखे और बाढ़ की समस्या बनी है वहीँ बरसात कम होने लगी है. बिना
      > जुताई की खेती के कुदरती अनाज पैदा करने में ८० % लागत की कम आती है. इस
      > खेती को करना बहुत आसान है बच्चे और महिलाये भी इसे आसानी से कर सकते हैं.
      > केवल बीजों को जमीन पर फेंक कर पिछली फसल के अवशेषों से उसे ढंकने भर से
      > ये खेती हो जाती हो और उत्पादन में कोई कमी नहीं आती है. एक और जहाँ जुताई
      > आधारित खेती अब मशीनो के बिना संभव नहीं है ये खेती मात्र हंसिये के बल पर
      > आसानी से हो जाती है जिस से खेती हर मजदूर को साल भर रोजगार मिलता है. बिना
      > जुताई की खेती की दोस्ती छाया से रहती है इस लिए इसे आसानी से पेडों के
      > साथ किया जाता है .मशीन से जुताई करने से किसान पेडों का दुश्मन हो गया है
      > इस से गोवंश भी लुप्त हो रहा है इसे बचाना है तो बिना जुताई की प्राक्रतिक
      > करना ही होगा यह खेती आसानी से चारे के पेडों के साथ की जाती है. हम केवल
      > एक गाय की बात नहीं करते हम तो ऐसा वातावरण चाहते हैं जिसमे हाथी भी पल
      > जाएँ. हरयाली पैदा करने का ये सर्वोत्तम उपाय है.
      >
      > इस कार्य शाला में पधारे १०१ साल के
      > स्वतंत्रता सेनानी माननीय श्री चम्पालालजी पिरोदिया ने कहा में भी इस खेती
      > को कर सकता हूँ बीजों को फेंक कर मैने इसकी शुरुवाद की है. ये खेती सत्य और
      > अहिंसा पर आधारित है सभी को करने चाहिए. इस को कर हम तेल की गुलामी से
      > खेती को मुक्त कर सकते हैं. किसानो की आत्म हत्या को रोक सकते हैं.
      > श्री मोहन लालजी पिरोदिया जो इस खेती के रतलाम में
      > प्रणेता है के भाई श्री मंगल्सिंग्जी ने कहा की हम जैनी बनिया हैं. घाटे
      > और हिंसा को बर्दास्त नहीं कर सकते हैं इस लिए इस खेती को अपनाया है.
      > उन्होंने १० एकड़ जमीन और इस में दान कर दी है इस प्रकार उनकी कुल १५ एकड़
      > जमीन अब इस में लग गयी है.अनेक जैनी बंधुओं ने भी इनकी तरह खेती करने का
      > वायदा किया है.
      > राजस्थान से पधारे एक पढ़े लिखे नव युवक ने इस
      > कार्य शाला से प्रेरित होकर गाँव वापस जाकर खेती करने का प्रण ले लिया है.
      > उनका कहना है जितना सुकून और पैसा मुझे इसमें दिख रहा है है वो और किसी काम
      > में नहीं है. इस लिए वे वापस गाँव जा रहा हूँ.
      > अनेक आदिवासी किसान जो आस पास के गाँवो से आये थे
      > ने बताया की श्री मोहनलालजी ने हमारे खेतों में गेंहूं फेंका था वो बहुत
      > अच्छा है हमें १५ क्विंटल /बीघा फसल की उम्मीद है. इस लिए अब इसी तरह गेंहू
      > बोयेंगे.हम सभी के प्रति अपना आभार मानते हैं. अनेक साधू संतों,जन
      > प्रतिनिधियों और वैज्ञानिको ने जो नहीं किया वो इन लोगों ने कर दिखाया है.
      > इस कार्य शाला में पधारे श्री सुभाषजी शर्मा जो अनेक सालों से रसायन मुक्त
      > सब्जी की खेती कर रहे हैं ने भी किसानो को खेती करने के गुर सिखाये .वे अपने
      > उत्पादों की अधिक कीमत नहीं लेते हैं फ़िर भी भर पूर मुनाफा कमाते हैं और
      > मजदूरों को बोनस बांटते हैं.वे प्रक्रति प्रेमी हैं सभी ने उनको बहुत सराहा है.
      >
      > कुछ नकली जैविक खेती के किसान और विक्रेता इस खेती
      > से असंतुस्ट नजर आये क्यों की वे अपने माल का ऊँचा दाम पा रहे हैं.
      > प्राकृत असली जैविक है. जो रासायनिक से सस्ता रहता है. इस में मिलावट और
      > नकली की कोई सम्भावना नहीं है. जब लागत कम है तो माल महंगा क्यों?
      > कुल मिलाकर कम लोगों के बीच की गयी कार्य शाला बहुत ही सफल रही जिस से सभी को
      > अपनी समस्याओं का निराकरण करने का मोका मिला.धन्यवादराजू टाइटस
      >
      > प्राकृतिक खेती के किसान
      >
      >
      > --
      >
      > --
      > Raju Titus. Hoshangabad. 461001.India.
      > +919179738049.
      > http://picasaweb.google.com/rajuktitus<
      > http://picasawebalbum.google.com/rajuktitus>
      >
      > fukuoka_farming yahoogroup
      >
      > --
      > Raju Titus. Hoshangabad. 461001.India.
      > +919179738049.
      > http://picasaweb.google.com/rajuktitus<
      > http://picasawebalbum.google.com/rajuktitus>
      >
      > fukuoka_farming yahoogroup
      >
      > [Non-text portions of this message have been removed]
      >
      >
      >


      [Non-text portions of this message have been removed]
    • Raju Titus
      Dear Sumantji, Thank you very much for translation. Raju 2011/3/2 Sumant Joshi ... -- Raju Titus. Hoshangabad. 461001.India.
      Message 2 of 9 , Mar 2 3:23 AM
      • 0 Attachment
        Dear Sumantji,
        Thank you very much for translation.
        Raju


        2011/3/2 Sumant Joshi <sumant_jo@...>

        >
        >
        > Natural Farmingreport on the two day meet cum workshop on 27th and 28th Feb
        > 2011Ratlam (a district in Madhaya Pradesh)The Pirodia family and friends
        > organized a two day meeting cum workshop at Ratlam on Natural farming. I and
        > Mr Subhash Sharma, two Natural farmers from India, were invited as chief
        > guests to speak on the subject. Farmers and other important people also
        > attended the meet. the main aim was to explain problems associated with
        > failure of farming based on tilling and artificial fertilizers and
        > pesticides and also to explain the improtance of no-till natural
        > farming.Most people in NF are of the opinion that it is the artificial
        > fertilizers and pesticides which cause the land to degrade and if we remove
        > these, it should be enough to improve it. we forget that traditional Indian
        > farmers used to leave the degraded tilled land fallow for a period of time
        > and the fertility would recover. The Rishi Panchami festival reminds us of
        > this. when we
        > till the land, it causes the soil to become like a fine paste during rains
        > which prevents water percolating into the soil. Ergo, it just flows away
        > and takes with it tons of good natural fertile soil.this causes farms to
        > become weak. they neither have good natural fertilizer and nor do they have
        > water. slowly farming is becoming a loss making proposition. farmers,
        > whether small or big are all in trouble which in turn means the world is in
        > trouble, financially, environmentally and socially. the Malwa region here is
        > suffering from drought like conditions.The water table in Ratlam has fallen
        > below 1000 feet !! weak farmlands are making weak food using artificial
        > fertilizers and pesticides. this in turn means we have poison in our daily
        > bread.The two day workshop was planned to teach farmers chemicals free
        > farming. 5 acres of naturally farmed land was demonstrated along with
        > surrounding farms which were using scientific chemical farming so people
        > could see for themselves. tilling based organic farming and also chemical
        > farming compared very poorly with no-till NF in terms use of water,
        > fertilizers and bio-diversity.
        > The food produced is also of very poor nutritional quality.In NF there is
        > no violence whereas in till based farming there is violence against the
        > micro-organisms living in the soil. tilling causes the stored natural
        > fertilizer to turn into carbon dioxide which is one of the causes of global
        > warming. since rain water isn't allowed to percolate into the soil,
        > alternate drought and flooding takes place. On the other hand rainfall
        > itself is showing a reducing trend. no-till farming also requires 80% lower
        > capital inputs. NF is easy and anyone including little kids can do it.
        > broadcasting seeds and covering them with last year's crop residue is
        > enough for a good harvest. till based farming isn't possible without
        > machines whereas no till NF just needs simple hand operated farming tools.
        > it also affords year long income to labourers. no-till farming is friendly
        > towards shady trees whereas till based farming is notoriously anti-tree. we
        > aren't talking of allowing cows to live, we also want elephants and other
        > living bengs to live on this Earth since it is their right. NF is best to
        > create a green world around us.101 year old Mr Champalal Pirodia told
        > everyone present that even he can do this type of farming by just
        > broadcasting seed on the ground and thats how I started. NF is based on
        > truth and non-violence. we can make farming independent of (fuel) oil
        > slavery and stop farmer suicides.Mr Mohanlalji Pirodia is a practicing NF
        > farmer in Ratlam. His brother Mr Mangal Singhji said "we are Jain Bania
        > (shopkeeper) caste
        > people. we dislike violence and loss which is why we have adopted NF". he
        > has added another 10 acres to NF. now he is has 15 acres under NF. his other
        > Jain brothers have agreed to start NF.A educated young man from Rajasthan
        > was so impressed that he vowed to go back to his native village and start
        > NF. "I have seen so much contentment and also money in NF which is not there
        > in other type of work. that is why I am going back to my roots in my
        > village".many tribal farmers who attended the workshop said "Mr Mohanlal had
        > broadcast wheat in our farm and we expect 15 quintals (1 quintal=100 kg) per
        > half acre. from now on we will use only NF. we are grateful to him". what
        > many saints and scientists have failed to do, these simple people have
        > managed to do.the workshop also had Mr Subhash Sharma who spoke of growing
        > vegetables using NF techniques. he does not overcharge for his naturally
        > grown vegetables and yet is making lots of profit part of which he
        > distributes as bonus amongst his labour. he loves nature and everyone
        > showed their appreciation for his attitude.a few so-called organic farmers
        > were unhappy with NF since they were getting good profits in the name of
        > organic produce. But the inputs in NF are far lower than chemical farming
        > then why should it be more expensive?
        > All in all, the workshop was a big success and everyone was able to solve
        > all their doubts.
        > thank you
        > Raju Titus
        > Sent from my BSNL landline B-fone
        >
        > Warm regards,
        >
        > Sumant Joshi
        > Tel - 09370010424, 0253-2361161
        >
        > --- On Wed, 2/3/11, Raju Titus <rajuktitus@...> wrote:
        >
        > From: Raju Titus <rajuktitus@...>
        > Subject: Fwd: प्राक्रतिक खेती (EDITED)
        > To: "sumant joshi" <sumant.jo@...>, "Yugandhar S." <
        > s.yugandhar@...>
        > Date: Wednesday, 2 March, 2011, 12:36 AM
        >
        > ---------- Forwarded message ----------
        > From: Raju Titus <rajuktitus@...>
        >
        > Date: 2011/3/1
        > Subject: प्राक्रतिक खेती (EDITED)
        > To: editorkrb@..., sanjay pirodia <pirodia.furniture@...>,
        > Supress Indore <sps2005@...>, ofai north <ofai.north@...>,
        > Vineet kumar Pandey <vineetkumarpandey22@...>, vidhyadas <
        > vidhyadas@...>, VOICE OF AMERICA <Hindi@...>, BBC Hindi
        > letter <hindi.letters@...>, bharat mansata <bharatmansata@...>,
        > "P.Bapu" <icra@...>, "R.N.Berwa" <rnberwa@...>
        >
        > प्राक्रतिक खेती
        >
        >
        > दो दिवसीय सम्मलेन की रिपोर्ट 27-28 फरवरी 2011
        >
        >
        > रतलाम
        >
        > विगत दिनों मंगल वाटिका में
        > प्राक्रतिक खेती से
        > सम्बन्धित एक दो दिवसीय सम्मलेन पिरोदिया परिवार और उनके साथियों के द्वारा
        > आयोजित किया गया था जिस में भारत में
        > प्राक्रतिक खेती के प्रणेता श्री राजू टाइटस और यवतमाल के
        > नेसर्गिक खेती के प्रसिद्ध श्री सुभाषजी शर्मा मुख्य
        > अतिथि के रूप में बुलाये गए थे. इस
        > सम्मेलन में अनेक गणमान्य लोगों के अलावा दूर दूर से किसान आये थे. यह सम्मलेन
        > मूल रूप से
        > जुताई आधारित जैविक और अजैविक खेती के उखड़ते कदमो
        > से उत्पन्न समस्या से निबटने के लिए बिना जुताई से की जाने वाली प्राक्रतिक
        > खेती के बढ़ते मजबूत
        > कदमो को समझाने के लिए बुलाई गयी थी.
        >
        > अधिकतर लोग ये समझते हैं की
        > खेती में उपयोग में आने वाले रसायनों के कारण जमीन ख़राब हो रही है और यदि
        > रसायन मुक्त
        > खेती की जाये तो समस्या का समाधान हो जायेगा. ये भूल है असल में भारतीय
        > प्राचीन
        > परम्परागत खेती में
        > अनेक उदाहरन मिलते हैं जब किसान जुताई से ख़राब होती खेती को सुधारने के लिए
        > जमीन को पड़ती कर देते
        > थे जिस से वो सुधर जाती थी. ऋषि पंचमी का पर्व हमें इसी बात की याद दिलाता है.
        > जुताई
        > करने से बखरी बारीक मिटटी बरसात के पानी से कीचड़ में तब्दील हो जाती है
        > जो पानी जमीन के अंदर जाने नहीं देती है इस लिए पानी तेजी से बहता है और
        > टनों जैविक खाद को बहा कर ले जाता है. इस कारण खेत कमजोर हो जाते हैं और खेत
        > भूके और प्यासे रह जाते हैं इस लिए खेती घाटे को सौदा बन रही है. हर
        > किसान चाहे वो छोटा हो या बड़ा मुसीबत में है तथा इस कारण पूरा विश्व आर्थिक
        > ,पर्यावरण और सामाजिक समस्याओं से जूझ
        > रहा है. मालवा में पानी
        > का अकाल पड़ा है.
        >
        > रतलाम का जल स्तर १००० फीट से अधिक नीचे चला गया है. कमजोर
        > खेतों में खाद और दवाओं के बल पर कमजोर फसल ही पैदा हो रही, हमारी रोटी में
        > जहर घुल गया है इस लिए केंसर जैसी बीमारियाँ पनप रही हैं.
        > इसी लिए बिना जुताई ,खाद ,और दवाई से होने वाली खेती का फार्म प्रदर्शन के
        > साथ ये दो दिन की कार्य शाला आयोजित की गयी थी. यहाँ वैज्ञानिक जैविक और
        > अजैविक खेती के बीच करीब ५ एकड़ में बिना जुताई की प्राक्रतिक खेती में
        > गेंहू को उगा कर बताया गया है जिस से सभी लोग तीनो खेती की विधियों के बीच
        > तुलनात्मक अध्यन कर स्वं जाने की क्या अंतर है. जुताई आधारित दोनों जैविक
        > और अजैविक खेती की विधियों में एक और जहाँ जल,खाद और जैव विवधताओं का छरण
        > चरम सीमा पर है वही उत्पादकता ,और गुणवत्ता का अभाव है. वहीँ बिना जुताई
        > की प्राक्रतिक खेती में खाद ,पानी और जैव विवधताओं का छरण शुन्य है जबकि
        > उत्पादन करीब २ तीनो में सामान्य है.
        >
        > इस के अलावा प्राकृतिक खेती में हिंसा बिलकुल
        > नहीं है जबकि जुताई से सबसे अधिक हिंसा होती है. जमीन में रहने वाले तमाम
        > जीव जंतु, सूक्ष्म जीवाणु पेड़ पोधों की इस में हिंसा होती है. जमीन की
        > जुताई करने से जमीन में जमा जैविक खाद (कार्बन), co2 में तब्दील हो जाती है
        > आसमान में जमा होकर धरती को कम्बल के समान ढँक लेती है जिस से धरती पर का
        > तापमान दिनों दिन बढ़ रहा है. बरसात का पानी जमीन में ना जाकर बह जाने से
        > एक और जहाँ सूखे और बाढ़ की समस्या बनी है वहीँ बरसात कम होने लगी है. बिना
        > जुताई की खेती के कुदरती अनाज पैदा करने में ८० % लागत की कम आती है. इस
        > खेती को करना बहुत आसान है बच्चे और महिलाये भी इसे आसानी से कर सकते हैं.
        > केवल बीजों को जमीन पर फेंक कर पिछली फसल के अवशेषों से उसे ढंकने भर से
        > ये खेती हो जाती हो और उत्पादन में कोई कमी नहीं आती है. एक और जहाँ जुताई
        > आधारित खेती अब मशीनो के बिना संभव नहीं है ये खेती मात्र हंसिये के बल पर
        > आसानी से हो जाती है जिस से खेती हर मजदूर को साल भर रोजगार मिलता है. बिना
        > जुताई की खेती की दोस्ती छाया से रहती है इस लिए इसे आसानी से पेडों के
        > साथ किया जाता है .मशीन से जुताई करने से किसान पेडों का दुश्मन हो गया है
        > इस से गोवंश भी लुप्त हो रहा है इसे बचाना है तो बिना जुताई की प्राक्रतिक
        > करना ही होगा यह खेती आसानी से चारे के पेडों के साथ की जाती है. हम केवल
        > एक गाय की बात नहीं करते हम तो ऐसा वातावरण चाहते हैं जिसमे हाथी भी पल
        > जाएँ. हरयाली पैदा करने का ये सर्वोत्तम उपाय है.
        >
        > इस कार्य शाला में पधारे १०१ साल के
        > स्वतंत्रता सेनानी माननीय श्री चम्पालालजी पिरोदिया ने कहा में भी इस खेती
        > को कर सकता हूँ बीजों को फेंक कर मैने इसकी शुरुवाद की है. ये खेती सत्य और
        > अहिंसा पर आधारित है सभी को करने चाहिए. इस को कर हम तेल की गुलामी से
        > खेती को मुक्त कर सकते हैं. किसानो की आत्म हत्या को रोक सकते हैं.
        > श्री मोहन लालजी पिरोदिया जो इस खेती के रतलाम में
        > प्रणेता है के भाई श्री मंगल्सिंग्जी ने कहा की हम जैनी बनिया हैं. घाटे
        > और हिंसा को बर्दास्त नहीं कर सकते हैं इस लिए इस खेती को अपनाया है.
        > उन्होंने १० एकड़ जमीन और इस में दान कर दी है इस प्रकार उनकी कुल १५ एकड़
        > जमीन अब इस में लग गयी है.अनेक जैनी बंधुओं ने भी इनकी तरह खेती करने का
        > वायदा किया है.
        > राजस्थान से पधारे एक पढ़े लिखे नव युवक ने इस
        > कार्य शाला से प्रेरित होकर गाँव वापस जाकर खेती करने का प्रण ले लिया है.
        > उनका कहना है जितना सुकून और पैसा मुझे इसमें दिख रहा है है वो और किसी काम
        > में नहीं है. इस लिए वे वापस गाँव जा रहा हूँ.
        > अनेक आदिवासी किसान जो आस पास के गाँवो से आये थे
        > ने बताया की श्री मोहनलालजी ने हमारे खेतों में गेंहूं फेंका था वो बहुत
        > अच्छा है हमें १५ क्विंटल /बीघा फसल की उम्मीद है. इस लिए अब इसी तरह गेंहू
        > बोयेंगे.हम सभी के प्रति अपना आभार मानते हैं. अनेक साधू संतों,जन
        > प्रतिनिधियों और वैज्ञानिको ने जो नहीं किया वो इन लोगों ने कर दिखाया है.
        > इस कार्य शाला में पधारे श्री सुभाषजी शर्मा जो अनेक सालों से रसायन मुक्त
        > सब्जी की खेती कर रहे हैं ने भी किसानो को खेती करने के गुर सिखाये .वे अपने
        > उत्पादों की अधिक कीमत नहीं लेते हैं फ़िर भी भर पूर मुनाफा कमाते हैं और
        > मजदूरों को बोनस बांटते हैं.वे प्रक्रति प्रेमी हैं सभी ने उनको बहुत सराहा है.
        >
        > कुछ नकली जैविक खेती के किसान और विक्रेता इस खेती
        > से असंतुस्ट नजर आये क्यों की वे अपने माल का ऊँचा दाम पा रहे हैं.
        > प्राकृत असली जैविक है. जो रासायनिक से सस्ता रहता है. इस में मिलावट और
        > नकली की कोई सम्भावना नहीं है. जब लागत कम है तो माल महंगा क्यों?
        > कुल मिलाकर कम लोगों के बीच की गयी कार्य शाला बहुत ही सफल रही जिस से सभी को
        > अपनी समस्याओं का निराकरण करने का मोका मिला.धन्यवादराजू टाइटस
        >
        > प्राकृतिक खेती के किसान
        >
        >
        > --
        >
        > --
        > Raju Titus. Hoshangabad. 461001.India.
        > +919179738049.
        > http://picasaweb.google.com/rajuktitus<
        > http://picasawebalbum.google.com/rajuktitus>
        >
        > fukuoka_farming yahoogroup
        >
        > --
        > Raju Titus. Hoshangabad. 461001.India.
        > +919179738049.
        > http://picasaweb.google.com/rajuktitus<
        > http://picasawebalbum.google.com/rajuktitus>
        >
        > fukuoka_farming yahoogroup
        >
        > [Non-text portions of this message have been removed]
        >
        >
        >



        --
        Raju Titus. Hoshangabad. 461001.India.
        +919179738049.
        http://picasaweb.google.com/rajuktitus<
        http://picasawebalbum.google.com/rajuktitus>
        fukuoka_farming yahoogroup


        [Non-text portions of this message have been removed]
      • Sumant Joshi
        Dear Rajuji,You are most welcome, if I am not practicing NF at least I am translating :))) Sent from my BSNL landline B-fone Warm regards, Sumant Joshi Tel -
        Message 3 of 9 , Mar 2 4:16 AM
        • 0 Attachment
          Dear Rajuji,You are most welcome, if I am not practicing NF at least I am translating :)))


          Sent from my BSNL landline B-fone

          Warm regards,

          Sumant Joshi
          Tel - 09370010424, 0253-2361161

          --- On Wed, 2/3/11, Raju Titus <rajuktitus@...> wrote:

          From: Raju Titus <rajuktitus@...>
          Subject: Re: [fukuoka_farming] translated - Fwd: प्राक्रतिक खेती (EDITED)
          To: fukuoka_farming@yahoogroups.com
          Date: Wednesday, 2 March, 2011, 4:53 PM
















           









          Dear Sumantji,

          Thank you very much for translation.

          Raju



          2011/3/2 Sumant Joshi <sumant_jo@...>



          >

          >

          > Natural Farmingreport on the two day meet cum workshop on 27th and 28th Feb

          > 2011Ratlam (a district in Madhaya Pradesh)The Pirodia family and friends

          > organized a two day meeting cum workshop at Ratlam on Natural farming. I and

          > Mr Subhash Sharma, two Natural farmers from India, were invited as chief

          > guests to speak on the subject. Farmers and other important people also

          > attended the meet. the main aim was to explain problems associated with

          > failure of farming based on tilling and artificial fertilizers and

          > pesticides and also to explain the improtance of no-till natural

          > farming.Most people in NF are of the opinion that it is the artificial

          > fertilizers and pesticides which cause the land to degrade and if we remove

          > these, it should be enough to improve it. we forget that traditional Indian

          > farmers used to leave the degraded tilled land fallow for a period of time

          > and the fertility would recover. The Rishi Panchami festival reminds us of

          > this. when we

          > till the land, it causes the soil to become like a fine paste during rains

          > which prevents water percolating into the soil. Ergo, it just flows away

          > and takes with it tons of good natural fertile soil.this causes farms to

          > become weak. they neither have good natural fertilizer and nor do they have

          > water. slowly farming is becoming a loss making proposition. farmers,

          > whether small or big are all in trouble which in turn means the world is in

          > trouble, financially, environmentally and socially. the Malwa region here is

          > suffering from drought like conditions.The water table in Ratlam has fallen

          > below 1000 feet !! weak farmlands are making weak food using artificial

          > fertilizers and pesticides. this in turn means we have poison in our daily

          > bread.The two day workshop was planned to teach farmers chemicals free

          > farming. 5 acres of naturally farmed land was demonstrated along with

          > surrounding farms which were using scientific chemical farming so people

          > could see for themselves. tilling based organic farming and also chemical

          > farming compared very poorly with no-till NF in terms use of water,

          > fertilizers and bio-diversity.

          > The food produced is also of very poor nutritional quality.In NF there is

          > no violence whereas in till based farming there is violence against the

          > micro-organisms living in the soil. tilling causes the stored natural

          > fertilizer to turn into carbon dioxide which is one of the causes of global

          > warming. since rain water isn't allowed to percolate into the soil,

          > alternate drought and flooding takes place. On the other hand rainfall

          > itself is showing a reducing trend. no-till farming also requires 80% lower

          > capital inputs. NF is easy and anyone including little kids can do it.

          > broadcasting seeds and covering them with last year's crop residue is

          > enough for a good harvest. till based farming isn't possible without

          > machines whereas no till NF just needs simple hand operated farming tools.

          > it also affords year long income to labourers. no-till farming is friendly

          > towards shady trees whereas till based farming is notoriously anti-tree. we

          > aren't talking of allowing cows to live, we also want elephants and other

          > living bengs to live on this Earth since it is their right. NF is best to

          > create a green world around us.101 year old Mr Champalal Pirodia told

          > everyone present that even he can do this type of farming by just

          > broadcasting seed on the ground and thats how I started. NF is based on

          > truth and non-violence. we can make farming independent of (fuel) oil

          > slavery and stop farmer suicides.Mr Mohanlalji Pirodia is a practicing NF

          > farmer in Ratlam. His brother Mr Mangal Singhji said "we are Jain Bania

          > (shopkeeper) caste

          > people. we dislike violence and loss which is why we have adopted NF". he

          > has added another 10 acres to NF. now he is has 15 acres under NF. his other

          > Jain brothers have agreed to start NF.A educated young man from Rajasthan

          > was so impressed that he vowed to go back to his native village and start

          > NF. "I have seen so much contentment and also money in NF which is not there

          > in other type of work. that is why I am going back to my roots in my

          > village".many tribal farmers who attended the workshop said "Mr Mohanlal had

          > broadcast wheat in our farm and we expect 15 quintals (1 quintal=100 kg) per

          > half acre. from now on we will use only NF. we are grateful to him". what

          > many saints and scientists have failed to do, these simple people have

          > managed to do.the workshop also had Mr Subhash Sharma who spoke of growing

          > vegetables using NF techniques. he does not overcharge for his naturally

          > grown vegetables and yet is making lots of profit part of which he

          > distributes as bonus amongst his labour. he loves nature and everyone

          > showed their appreciation for his attitude.a few so-called organic farmers

          > were unhappy with NF since they were getting good profits in the name of

          > organic produce. But the inputs in NF are far lower than chemical farming

          > then why should it be more expensive?

          > All in all, the workshop was a big success and everyone was able to solve

          > all their doubts.

          > thank you

          > Raju Titus

          > Sent from my BSNL landline B-fone

          >

          > Warm regards,

          >

          > Sumant Joshi

          > Tel - 09370010424, 0253-2361161

          >

          > --- On Wed, 2/3/11, Raju Titus <rajuktitus@...> wrote:

          >

          > From: Raju Titus <rajuktitus@...>

          > Subject: Fwd: प्राक्रतिक खेती (EDITED)

          > To: "sumant joshi" <sumant.jo@...>, "Yugandhar S." <

          > s.yugandhar@...>

          > Date: Wednesday, 2 March, 2011, 12:36 AM

          >

          > ---------- Forwarded message ----------

          > From: Raju Titus <rajuktitus@...>

          >

          > Date: 2011/3/1

          > Subject: प्राक्रतिक खेती (EDITED)

          > To: editorkrb@..., sanjay pirodia <pirodia.furniture@...>,

          > Supress Indore <sps2005@...>, ofai north <ofai.north@...>,

          > Vineet kumar Pandey <vineetkumarpandey22@...>, vidhyadas <

          > vidhyadas@...>, VOICE OF AMERICA <Hindi@...>, BBC Hindi

          > letter <hindi.letters@...>, bharat mansata <bharatmansata@...>,

          > "P.Bapu" <icra@...>, "R.N.Berwa" <rnberwa@...>

          >

          > प्राक्रतिक खेती

          >

          >

          > दो दिवसीय सम्मलेन की रिपोर्ट 27-28 फरवरी 2011

          >

          >

          > रतलाम

          >

          > विगत दिनों मंगल वाटिका में

          > प्राक्रतिक खेती से

          > सम्बन्धित एक दो दिवसीय सम्मलेन पिरोदिया परिवार और उनके साथियों के द्वारा

          > आयोजित किया गया था जिस में भारत में

          > प्राक्रतिक खेती के प्रणेता श्री राजू टाइटस और यवतमाल के

          > नेसर्गिक खेती के प्रसिद्ध श्री सुभाषजी शर्मा मुख्य

          > अतिथि के रूप में बुलाये गए थे. इस

          > सम्मेलन में अनेक गणमान्य लोगों के अलावा दूर दूर से किसान आये थे. यह सम्मलेन

          > मूल रूप से

          > जुताई आधारित जैविक और अजैविक खेती के उखड़ते कदमो

          > से उत्पन्न समस्या से निबटने के लिए बिना जुताई से की जाने वाली प्राक्रतिक

          > खेती के बढ़ते मजबूत

          > कदमो को समझाने के लिए बुलाई गयी थी.

          >

          > अधिकतर लोग ये समझते हैं की

          > खेती में उपयोग में आने वाले रसायनों के कारण जमीन ख़राब हो रही है और यदि

          > रसायन मुक्त

          > खेती की जाये तो समस्या का समाधान हो जायेगा. ये भूल है असल में भारतीय

          > प्राचीन

          > परम्परागत खेती में

          > अनेक उदाहरन मिलते हैं जब किसान जुताई से ख़राब होती खेती को सुधारने के लिए

          > जमीन को पड़ती कर देते

          > थे जिस से वो सुधर जाती थी. ऋषि पंचमी का पर्व हमें इसी बात की याद दिलाता है.

          > जुताई

          > करने से बखरी बारीक मिटटी बरसात के पानी से कीचड़ में तब्दील हो जाती है

          > जो पानी जमीन के अंदर जाने नहीं देती है इस लिए पानी तेजी से बहता है और

          > टनों जैविक खाद को बहा कर ले जाता है. इस कारण खेत कमजोर हो जाते हैं और खेत

          > भूके और प्यासे रह जाते हैं इस लिए खेती घाटे को सौदा बन रही है. हर

          > किसान चाहे वो छोटा हो या बड़ा मुसीबत में है तथा इस कारण पूरा विश्व आर्थिक

          > ,पर्यावरण और सामाजिक समस्याओं से जूझ

          > रहा है. मालवा में पानी

          > का अकाल पड़ा है.

          >

          > रतलाम का जल स्तर १००० फीट से अधिक नीचे चला गया है. कमजोर

          > खेतों में खाद और दवाओं के बल पर कमजोर फसल ही पैदा हो रही, हमारी रोटी में

          > जहर घुल गया है इस लिए केंसर जैसी बीमारियाँ पनप रही हैं.

          > इसी लिए बिना जुताई ,खाद ,और दवाई से होने वाली खेती का फार्म प्रदर्शन के

          > साथ ये दो दिन की कार्य शाला आयोजित की गयी थी. यहाँ वैज्ञानिक जैविक और

          > अजैविक खेती के बीच करीब ५ एकड़ में बिना जुताई की प्राक्रतिक खेती में

          > गेंहू को उगा कर बताया गया है जिस से सभी लोग तीनो खेती की विधियों के बीच

          > तुलनात्मक अध्यन कर स्वं जाने की क्या अंतर है. जुताई आधारित दोनों जैविक

          > और अजैविक खेती की विधियों में एक और जहाँ जल,खाद और जैव विवधताओं का छरण

          > चरम सीमा पर है वही उत्पादकता ,और गुणवत्ता का अभाव है. वहीँ बिना जुताई

          > की प्राक्रतिक खेती में खाद ,पानी और जैव विवधताओं का छरण शुन्य है जबकि

          > उत्पादन करीब २ तीनो में सामान्य है.

          >

          > इस के अलावा प्राकृतिक खेती में हिंसा बिलकुल

          > नहीं है जबकि जुताई से सबसे अधिक हिंसा होती है. जमीन में रहने वाले तमाम

          > जीव जंतु, सूक्ष्म जीवाणु पेड़ पोधों की इस में हिंसा होती है. जमीन की

          > जुताई करने से जमीन में जमा जैविक खाद (कार्बन), co2 में तब्दील हो जाती है

          > आसमान में जमा होकर धरती को कम्बल के समान ढँक लेती है जिस से धरती पर का

          > तापमान दिनों दिन बढ़ रहा है. बरसात का पानी जमीन में ना जाकर बह जाने से

          > एक और जहाँ सूखे और बाढ़ की समस्या बनी है वहीँ बरसात कम होने लगी है. बिना

          > जुताई की खेती के कुदरती अनाज पैदा करने में ८० % लागत की कम आती है. इस

          > खेती को करना बहुत आसान है बच्चे और महिलाये भी इसे आसानी से कर सकते हैं.

          > केवल बीजों को जमीन पर फेंक कर पिछली फसल के अवशेषों से उसे ढंकने भर से

          > ये खेती हो जाती हो और उत्पादन में कोई कमी नहीं आती है. एक और जहाँ जुताई

          > आधारित खेती अब मशीनो के बिना संभव नहीं है ये खेती मात्र हंसिये के बल पर

          > आसानी से हो जाती है जिस से खेती हर मजदूर को साल भर रोजगार मिलता है. बिना

          > जुताई की खेती की दोस्ती छाया से रहती है इस लिए इसे आसानी से पेडों के

          > साथ किया जाता है .मशीन से जुताई करने से किसान पेडों का दुश्मन हो गया है

          > इस से गोवंश भी लुप्त हो रहा है इसे बचाना है तो बिना जुताई की प्राक्रतिक

          > करना ही होगा यह खेती आसानी से चारे के पेडों के साथ की जाती है. हम केवल

          > एक गाय की बात नहीं करते हम तो ऐसा वातावरण चाहते हैं जिसमे हाथी भी पल

          > जाएँ. हरयाली पैदा करने का ये सर्वोत्तम उपाय है.

          >

          > इस कार्य शाला में पधारे १०१ साल के

          > स्वतंत्रता सेनानी माननीय श्री चम्पालालजी पिरोदिया ने कहा में भी इस खेती

          > को कर सकता हूँ बीजों को फेंक कर मैने इसकी शुरुवाद की है. ये खेती सत्य और

          > अहिंसा पर आधारित है सभी को करने चाहिए. इस को कर हम तेल की गुलामी से

          > खेती को मुक्त कर सकते हैं. किसानो की आत्म हत्या को रोक सकते हैं.

          > श्री मोहन लालजी पिरोदिया जो इस खेती के रतलाम में

          > प्रणेता है के भाई श्री मंगल्सिंग्जी ने कहा की हम जैनी बनिया हैं. घाटे

          > और हिंसा को बर्दास्त नहीं कर सकते हैं इस लिए इस खेती को अपनाया है.

          > उन्होंने १० एकड़ जमीन और इस में दान कर दी है इस प्रकार उनकी कुल १५ एकड़

          > जमीन अब इस में लग गयी है.अनेक जैनी बंधुओं ने भी इनकी तरह खेती करने का

          > वायदा किया है.

          > राजस्थान से पधारे एक पढ़े लिखे नव युवक ने इस

          > कार्य शाला से प्रेरित होकर गाँव वापस जाकर खेती करने का प्रण ले लिया है.

          > उनका कहना है जितना सुकून और पैसा मुझे इसमें दिख रहा है है वो और किसी काम

          > में नहीं है. इस लिए वे वापस गाँव जा रहा हूँ.

          > अनेक आदिवासी किसान जो आस पास के गाँवो से आये थे

          > ने बताया की श्री मोहनलालजी ने हमारे खेतों में गेंहूं फेंका था वो बहुत

          > अच्छा है हमें १५ क्विंटल /बीघा फसल की उम्मीद है. इस लिए अब इसी तरह गेंहू

          > बोयेंगे.हम सभी के प्रति अपना आभार मानते हैं. अनेक साधू संतों,जन

          > प्रतिनिधियों और वैज्ञानिको ने जो नहीं किया वो इन लोगों ने कर दिखाया है.

          > इस कार्य शाला में पधारे श्री सुभाषजी शर्मा जो अनेक सालों से रसायन मुक्त

          > सब्जी की खेती कर रहे हैं ने भी किसानो को खेती करने के गुर सिखाये .वे अपने

          > उत्पादों की अधिक कीमत नहीं लेते हैं फ़िर भी भर पूर मुनाफा कमाते हैं और

          > मजदूरों को बोनस बांटते हैं.वे प्रक्रति प्रेमी हैं सभी ने उनको बहुत सराहा है.

          >

          > कुछ नकली जैविक खेती के किसान और विक्रेता इस खेती

          > से असंतुस्ट नजर आये क्यों की वे अपने माल का ऊँचा दाम पा रहे हैं.

          > प्राकृत असली जैविक है. जो रासायनिक से सस्ता रहता है. इस में मिलावट और

          > नकली की कोई सम्भावना नहीं है. जब लागत कम है तो माल महंगा क्यों?

          > कुल मिलाकर कम लोगों के बीच की गयी कार्य शाला बहुत ही सफल रही जिस से सभी को

          > अपनी समस्याओं का निराकरण करने का मोका मिला.धन्यवादराजू टाइटस

          >

          > प्राकृतिक खेती के किसान

          >

          >

          > --

          >

          > --

          > Raju Titus. Hoshangabad. 461001.India.

          > +919179738049.

          > http://picasaweb.google.com/rajuktitus<

          > http://picasawebalbum.google.com/rajuktitus>

          >

          > fukuoka_farming yahoogroup

          >

          > --

          > Raju Titus. Hoshangabad. 461001.India.

          > +919179738049.

          > http://picasaweb.google.com/rajuktitus<

          > http://picasawebalbum.google.com/rajuktitus>

          >

          > fukuoka_farming yahoogroup

          >

          > [Non-text portions of this message have been removed]

          >

          >

          >



          --

          Raju Titus. Hoshangabad. 461001.India.

          +919179738049.

          http://picasaweb.google.com/rajuktitus<

          http://picasawebalbum.google.com/rajuktitus>

          fukuoka_farming yahoogroup



          [Non-text portions of this message have been removed]





























          [Non-text portions of this message have been removed]
        • Sumant Joshi
          ... Sent from my BSNL landline B-fone Warm regards, Sumant Joshi Tel - 09370010424, 0253-2361161 ... From: Ruthie Aquino Subject: Re:
          Message 4 of 9 , Mar 2 4:19 AM
          • 0 Attachment
            :)) like I said, that is the least I can do.


            Sent from my BSNL landline B-fone

            Warm regards,

            Sumant Joshi
            Tel - 09370010424, 0253-2361161

            --- On Wed, 2/3/11, Ruthie Aquino <ruthieaquino1@...> wrote:

            From: Ruthie Aquino <ruthieaquino1@...>
            Subject: Re: [fukuoka_farming] translated - Fwd: प्राक्रतिक खेती (EDITED)
            To: fukuoka_farming@yahoogroups.com
            Cc: "Sumant Joshi" <sumant_jo@...>
            Date: Wednesday, 2 March, 2011, 3:35 PM

            Thankyou for translating.
             
            best regards
            RUTHIE


            2011/3/2 Sumant Joshi <sumant_jo@...>


             



            Natural Farmingreport on the two day meet cum workshop on 27th and 28th Feb 2011Ratlam (a district in Madhaya Pradesh)The Pirodia family and friends organized a two day meeting cum workshop at Ratlam on Natural farming. I and Mr Subhash Sharma, two Natural farmers from India, were invited as chief guests to speak on the subject. Farmers and other important people also attended the meet. the main aim was to explain problems associated with failure of farming based on tilling and artificial fertilizers and pesticides and also to explain the improtance of no-till natural farming.Most people in NF are of the opinion that it is the artificial fertilizers and pesticides which cause the land to degrade and if we remove these, it should be enough to improve it. we forget that traditional Indian farmers used to leave the degraded tilled land fallow for a period of time and the fertility would recover. The Rishi Panchami festival reminds us of this. when we


            till the land, it causes the soil to become like a fine paste during rains which prevents water percolating into the soil. Ergo, it just flows away and takes with it tons of good natural fertile soil.this causes farms to become weak. they neither have good natural fertilizer and nor do they have water. slowly farming is becoming a loss making proposition. farmers, whether small or big are all in trouble which in turn means the world is in trouble, financially, environmentally and socially. the Malwa region here is suffering from drought like conditions.The water table in Ratlam has fallen below 1000 feet !! weak farmlands are making weak food using artificial fertilizers and pesticides. this in turn means we have poison in our daily bread.The two day workshop was planned to teach farmers chemicals free farming. 5 acres of naturally farmed land was demonstrated along with surrounding farms which were using scientific chemical farming so people


            could see for themselves. tilling based organic farming and also chemical farming compared very poorly with no-till NF in terms use of water, fertilizers and bio-diversity. 
            The food produced is also of very poor nutritional quality.In NF there is no violence whereas in till based farming there is violence against the micro-organisms living in the soil. tilling causes the stored natural fertilizer to turn into carbon dioxide which is one of the causes of global warming. since rain water isn't allowed to percolate into the soil, alternate drought and flooding takes place. On the other hand rainfall itself is showing a reducing trend. no-till farming also requires 80% lower capital inputs. NF is easy and anyone including little kids can do it. 


            broadcasting seeds and covering them with last year's crop residue is enough for a good harvest. till based farming isn't possible without machines whereas no till NF just needs simple hand operated farming tools. it also affords year long income to labourers. no-till farming is friendly towards shady trees whereas till based farming is notoriously anti-tree. we aren't talking of allowing cows to live, we also want elephants and other living bengs to live on this Earth since it is their right. NF is best to create a green world around us.101 year old Mr Champalal Pirodia told everyone present that even he can do this type of farming by just broadcasting seed on the ground and thats how I started. NF is based on truth and non-violence. we can make farming independent of (fuel) oil slavery and stop farmer suicides.Mr Mohanlalji Pirodia is a practicing NF farmer in Ratlam. His brother Mr Mangal Singhji said "we are Jain Bania (shopkeeper) caste


            people. we dislike violence and loss which is why we have adopted NF". he has added another 10 acres to NF. now he is has 15 acres under NF. his other Jain brothers have agreed to start NF.A educated young man from Rajasthan was so impressed that he vowed to go back to his native village and start NF. "I have seen so much contentment and also money in NF which is not there in other type of work. that is why I am going back to my roots in my village".many tribal farmers who attended the workshop said "Mr Mohanlal had broadcast wheat in our farm and we expect 15 quintals (1 quintal=100 kg) per half acre. from now on we will use only NF. we are grateful to him". what many saints and scientists have failed to do, these simple people have managed to do.the workshop also had Mr Subhash Sharma who spoke of growing vegetables using NF techniques. he does not overcharge for his naturally grown vegetables and yet is making lots of profit part of which he


            distributes as bonus amongst his labour. he loves nature and everyone showed their appreciation for his attitude.a few so-called organic farmers were unhappy with NF since they were getting good profits in the name of organic produce. But the inputs in NF are far lower than chemical farming then why should it be more expensive?


            All in all, the workshop was a big success and everyone was able to solve all their doubts.
            thank you
            Raju Titus
            Sent from my BSNL landline B-fone

            Warm regards,

            Sumant Joshi
            Tel - 09370010424, 0253-2361161



            --- On Wed, 2/3/11, Raju Titus <rajuktitus@...> wrote:

            From: Raju Titus <rajuktitus@...>


            Subject: Fwd: प्राक्रतिक खेती (EDITED)
            To: "sumant joshi" <sumant.jo@...>, "Yugandhar S." <s.yugandhar@...>


            Date: Wednesday, 2 March, 2011, 12:36 AM

            ---------- Forwarded message ----------
            From: Raju Titus <rajuktitus@...>

            Date: 2011/3/1


            Subject: प्राक्रतिक खेती (EDITED)
            To: editorkrb@..., sanjay pirodia <pirodia.furniture@...>, Supress Indore <sps2005@...>, ofai north <ofai.north@...>, Vineet kumar Pandey <vineetkumarpandey22@...>, vidhyadas <vidhyadas@...>, VOICE OF AMERICA <Hindi@...>, BBC Hindi letter <hindi.letters@...>, bharat mansata <bharatmansata@...>, "P.Bapu" <icra@...>, "R.N.Berwa" <rnberwa@...>



              प्राक्रतिक खेती

                    
            दो दिवसीय सम्मलेन की रिपोर्ट        27-28 फरवरी 2011

                                       
            रतलाम

            विगत दिनों मंगल वाटिका में
            प्राक्रतिक खेती  से
            सम्बन्धित एक दो दिवसीय सम्मलेन पिरोदिया परिवार और उनके साथियों के द्वारा


            आयोजित  किया गया था जिस में भारत में
            प्राक्रतिक खेती के प्रणेता श्री राजू टाइटस और यवतमाल के
            नेसर्गिक खेती  के प्रसिद्ध श्री सुभाषजी शर्मा मुख्य 
            अतिथि के रूप में बुलाये गए थे. इस
            सम्मेलन में अनेक गणमान्य लोगों के अलावा दूर दूर से किसान आये थे. यह सम्मलेन मूल रूप से 


            जुताई आधारित जैविक और अजैविक खेती के उखड़ते कदमो
            से उत्पन्न समस्या से निबटने के लिए बिना जुताई से की जाने वाली प्राक्रतिक
            खेती  के बढ़ते मजबूत
            कदमो को समझाने के लिए बुलाई गयी थी.

              अधिकतर लोग ये समझते हैं की


            खेती में उपयोग में आने वाले रसायनों के कारण जमीन ख़राब हो रही है और यदि रसायन मुक्त
            खेती की जाये तो समस्या का समाधान हो जायेगा. ये भूल है असल में भारतीय प्राचीन
            परम्परागत  खेती में  
            अनेक  उदाहरन  मिलते हैं जब किसान जुताई से ख़राब होती खेती को सुधारने के लिए


            जमीन को पड़ती कर  देते
            थे जिस से वो सुधर जाती थी. ऋषि पंचमी का पर्व हमें इसी बात की याद दिलाता है. जुताई
            करने से बखरी बारीक मिटटी बरसात के पानी से कीचड़ में तब्दील हो जाती है
            जो पानी जमीन के अंदर जाने नहीं देती है इस लिए पानी तेजी से बहता है और


            टनों जैविक खाद को बहा कर ले जाता है. इस कारण खेत कमजोर हो जाते हैं और खेत
            भूके और प्यासे रह जाते हैं इस लिए खेती घाटे को सौदा बन रही है. हर
            किसान चाहे वो छोटा हो या बड़ा मुसीबत में है तथा इस कारण पूरा विश्व आर्थिक ,पर्यावरण और सामाजिक समस्याओं से जूझ


            रहा है.  मालवा में पानी
            का अकाल पड़ा है.

            रतलाम का जल स्तर १०००   फीट से अधिक नीचे चला गया है. कमजोर
            खेतों में खाद और दवाओं के बल पर कमजोर फसल ही पैदा हो रही, हमारी रोटी में जहर घुल गया है इस लिए केंसर जैसी बीमारियाँ पनप रही हैं.       


            इसी लिए बिना जुताई ,खाद ,और दवाई से होने वाली खेती का फार्म प्रदर्शन के
            साथ ये दो दिन की कार्य शाला आयोजित की गयी थी. यहाँ वैज्ञानिक जैविक और
            अजैविक खेती के बीच करीब ५ एकड़ में बिना जुताई की प्राक्रतिक खेती में


            गेंहू को उगा कर बताया गया है जिस से सभी लोग तीनो खेती की विधियों के बीच
            तुलनात्मक अध्यन कर स्वं जाने की क्या अंतर है. जुताई आधारित दोनों जैविक
            और अजैविक  खेती की विधियों में एक और जहाँ जल,खाद और जैव विवधताओं का छरण 


            चरम सीमा पर है वही उत्पादकता ,और गुणवत्ता का अभाव है. वहीँ बिना जुताई
            की प्राक्रतिक खेती में खाद ,पानी और जैव विवधताओं का छरण शुन्य है जबकि
            उत्पादन करीब २ तीनो में सामान्य है.

            इस के अलावा प्राकृतिक खेती में हिंसा बिलकुल


            नहीं है जबकि जुताई से सबसे अधिक हिंसा होती है. जमीन में रहने वाले तमाम
            जीव जंतु, सूक्ष्म जीवाणु पेड़ पोधों की इस में हिंसा होती है. जमीन की
            जुताई करने से जमीन में जमा जैविक खाद (कार्बन), co2 में तब्दील हो जाती है


            आसमान में जमा होकर धरती को कम्बल के समान ढँक लेती है जिस से धरती पर का
            तापमान दिनों दिन बढ़ रहा है. बरसात का पानी जमीन में ना जाकर बह जाने से
            एक और जहाँ सूखे और बाढ़ की समस्या बनी है वहीँ बरसात कम होने लगी है. बिना


            जुताई की खेती के कुदरती अनाज पैदा करने में ८० % लागत की कम आती  है. इस
            खेती को करना बहुत आसान है बच्चे और महिलाये भी इसे आसानी से कर सकते हैं.
            केवल बीजों को जमीन पर फेंक कर पिछली फसल के अवशेषों से उसे ढंकने भर से


            ये खेती हो जाती हो और उत्पादन में कोई कमी नहीं आती है. एक और जहाँ जुताई
            आधारित खेती अब मशीनो के बिना संभव नहीं है ये खेती मात्र हंसिये के बल पर
            आसानी से हो जाती है जिस से खेती हर मजदूर को साल भर रोजगार मिलता है. बिना


            जुताई की खेती की दोस्ती छाया से रहती है इस लिए इसे आसानी से  पेडों के
            साथ किया जाता है .मशीन से जुताई करने से किसान पेडों का दुश्मन हो गया है
            इस से गोवंश भी लुप्त हो रहा है इसे बचाना है तो बिना जुताई की प्राक्रतिक


            करना ही होगा यह खेती आसानी से चारे के पेडों के साथ की जाती है. हम केवल
            एक गाय की बात नहीं करते हम तो ऐसा वातावरण चाहते हैं जिसमे हाथी भी पल
            जाएँ. हरयाली पैदा करने का ये सर्वोत्तम उपाय है.

               इस कार्य शाला में पधारे १०१ साल के


            स्वतंत्रता सेनानी माननीय श्री चम्पालालजी पिरोदिया ने कहा में भी इस खेती
            को कर सकता हूँ बीजों को फेंक कर मैने इसकी शुरुवाद की है. ये खेती सत्य और
            अहिंसा पर आधारित है सभी को करने चाहिए. इस को कर हम तेल की गुलामी से


            खेती को मुक्त कर सकते हैं. किसानो की आत्म हत्या को रोक सकते हैं.
            श्री मोहन लालजी पिरोदिया जो इस खेती के रतलाम में
            प्रणेता है के भाई श्री मंगल्सिंग्जी ने कहा की हम जैनी बनिया हैं. घाटे 
            और हिंसा को बर्दास्त नहीं कर सकते हैं इस लिए इस खेती को अपनाया है.


            उन्होंने १० एकड़ जमीन और इस में दान कर दी है इस प्रकार उनकी कुल १५ एकड़
            जमीन अब इस में लग गयी है.अनेक जैनी बंधुओं ने भी इनकी तरह खेती करने का
            वायदा किया है.
                राजस्थान से पधारे एक पढ़े लिखे नव युवक ने इस
            कार्य शाला से प्रेरित होकर गाँव वापस जाकर खेती करने का प्रण ले लिया है.


            उनका कहना है जितना सुकून और पैसा मुझे इसमें दिख रहा है है वो और किसी काम
            में नहीं है. इस लिए वे वापस गाँव जा रहा हूँ.
               अनेक आदिवासी किसान जो आस पास के गाँवो से आये थे
            ने बताया की श्री मोहनलालजी ने हमारे खेतों में गेंहूं फेंका था वो बहुत 


            अच्छा है हमें १५ क्विंटल /बीघा फसल की उम्मीद है. इस लिए अब इसी तरह गेंहू
            बोयेंगे.हम सभी के प्रति अपना आभार मानते हैं. अनेक साधू संतों,जन
            प्रतिनिधियों और वैज्ञानिको ने जो नहीं किया वो इन लोगों ने कर दिखाया है.   इस कार्य शाला में पधारे श्री सुभाषजी शर्मा जो अनेक सालों से रसायन मुक्त सब्जी की खेती कर रहे हैं ने भी किसानो को खेती करने के गुर सिखाये .वे अपने उत्पादों की अधिक कीमत नहीं लेते हैं फ़िर भी भर पूर मुनाफा कमाते हैं और मजदूरों को बोनस बांटते हैं.वे प्रक्रति प्रेमी हैं सभी ने उनको बहुत सराहा है.



               कुछ नकली जैविक खेती के किसान और विक्रेता इस खेती
            से असंतुस्ट नजर आये क्यों की वे अपने माल का ऊँचा दाम पा रहे हैं.
            प्राकृत असली जैविक है. जो रासायनिक से सस्ता रहता है. इस में मिलावट और
            नकली की कोई सम्भावना नहीं है. जब लागत कम है तो माल महंगा क्यों? 


            कुल मिलाकर कम लोगों के बीच की गयी कार्य शाला बहुत ही सफल रही जिस से सभी  को अपनी समस्याओं का निराकरण करने का मोका मिला.धन्यवादराजू टाइटस 

            प्राकृतिक खेती के किसान
             

            --

            --
            Raju Titus. Hoshangabad. 461001.India.


            +919179738049.
            http://picasaweb.google.com/rajuktitus<http://picasawebalbum.google.com/rajuktitus>



            fukuoka_farming yahoogroup

            --
            Raju Titus. Hoshangabad. 461001.India.
            +919179738049.
            http://picasaweb.google.com/rajuktitus<http://picasawebalbum.google.com/rajuktitus>



            fukuoka_farming yahoogroup

            [Non-text portions of this message have been removed]








            [Non-text portions of this message have been removed]
          • Jason Stewart
            Thank you very much Mr. Raju Titus sensei (meaning educator), for your excellent work farming and sharing it with so many keen to learn from you, and with your
            Message 5 of 9 , Mar 3 1:06 AM
            • 0 Attachment
              Thank you very much Mr. Raju Titus sensei (meaning educator),
              for your excellent work farming and sharing it with so many keen to learn from
              you, and with your writing it up here.
              I commend you to everyone i come into contact with here and there and
              everywhere! Thank you so Mr. Sumant Joshi for your conscientiousness and
              persisting efforts in translating this and previous.
              .
              Again, i humbly commend this writing to all, according to my previously
              expressed want for more scholarly–based info here amongst us.
              (A few reflections from me:
              I'm confident you already know and that i don't really need to say this next to
              you both, here goes anyway for everyone; Please don't you both (i know you
              won't) get 'a big head' from how good your work is, or anyone by association
              with it, –which it really is that good–, because 'the big head' is precisely
              what ruins the excellence; Precisely what makes each of us complacent and stop
              learning –resting on our laurels– if we become infected by it, 'a big head'.
              Getting out into wild, not wilderness, nature always shrinks a big head back to
              reality again –that's the antidote! haha, with my love for all nature! I know
              from past experiences of sharing..., starting from many years ago! A plain and
              simple way for me to say that is that i commend this writing to all, but at the
              same time nothing is perfect in this mortal world, including this; rather that
              it is much better than most of what else the world has been passing, for
              agricultural education. Perfect is for people's writing that can cure the
              world's farming problems in just one sentence. How's that for a another goal to
              aspire to for perfection of human nature, in the sense of late Mr. Fukuoka
              Masanobu sensei.)
              .
              .
              Biggest best wishes with all,
              .
              Jason Stewart
              —in practice (at the moment in summer season) in the nature farm,
              region:far east gippsland,
              state: Victoria,
              Oz (vernacular for so called Australia).




              ________________________________
              From: Sumant Joshi <sumant_jo@...>
              To: fukuoka farming <fukuoka_farming@yahoogroups.com>
              Sent: Wednesday, March 2, 2011 20:13:33
              Subject: [fukuoka_farming] translated - Fwd: प्राक्रतिक खेती (EDITED)


              Natural Farmingreport on the two day meet cum workshop on 27th and 28th Feb
              2011Ratlam (a district in Madhaya Pradesh)The Pirodia family and friends
              organized a two day meeting cum workshop at Ratlam on Natural farming. I and Mr
              Subhash Sharma, two Natural farmers from India, were invited as chief guests to
              speak on the subject. Farmers and other important people also attended the meet.
              the main aim was to explain problems associated with failure of farming based on
              tilling and artificial fertilizers and pesticides and also to explain the
              improtance of no-till natural farming.Most people in NF are of the opinion that
              it is the artificial fertilizers and pesticides which cause the land to degrade
              and if we remove these, it should be enough to improve it. we forget that
              traditional Indian farmers used to leave the degraded tilled land fallow for a
              period of time and the fertility would recover. The Rishi Panchami festival
              reminds us of this. when we
              till the land, it causes the soil to become like a fine paste during rains which
              prevents water percolating into the soil. Ergo, it just flows away and takes
              with it tons of good natural fertile soil.this causes farms to become weak. they
              neither have good natural fertilizer and nor do they have water. slowly farming
              is becoming a loss making proposition. farmers, whether small or big are all in
              trouble which in turn means the world is in trouble, financially,
              environmentally and socially. the Malwa region here is suffering from drought
              like conditions.The water table in Ratlam has fallen below 1000 feet !! weak
              farmlands are making weak food using artificial fertilizers and pesticides. this
              in turn means we have poison in our daily bread.The two day workshop was planned
              to teach farmers chemicals free farming. 5 acres of naturally farmed land was
              demonstrated along with surrounding farms which were using scientific chemical
              farming so people
              could see for themselves. tilling based organic farming and also chemical
              farming compared very poorly with no-till NF in terms use of water, fertilizers
              and bio-diversity.
              The food produced is also of very poor nutritional quality.In NF there is no
              violence whereas in till based farming there is violence against the
              micro-organisms living in the soil. tilling causes the stored natural fertilizer
              to turn into carbon dioxide which is one of the causes of global warming. since
              rain water isn't allowed to percolate into the soil, alternate drought and
              flooding takes place. On the other hand rainfall itself is showing a reducing
              trend. no-till farming also requires 80% lower capital inputs. NF is easy and
              anyone including little kids can do it.
              broadcasting seeds and covering them with last year's crop residue is enough for
              a good harvest. till based farming isn't possible without machines whereas no
              till NF just needs simple hand operated farming tools. it also affords year long
              income to labourers. no-till farming is friendly towards shady trees whereas
              till based farming is notoriously anti-tree. we aren't talking of allowing
              cows to live, we also want elephants and other living bengs to live on this
              Earth since it is their right. NF is best to create a green world around us.101
              year old Mr Champalal Pirodia told everyone present that even he can do this
              type of farming by just broadcasting seed on the ground and thats how I started.
              NF is based on truth and non-violence. we can make farming independent of (fuel)
              oil slavery and stop farmer suicides.Mr Mohanlalji Pirodia is a practicing NF
              farmer in Ratlam. His brother Mr Mangal Singhji said "we are Jain Bania
              (shopkeeper) caste
              people. we dislike violence and loss which is why we have adopted NF". he has
              added another 10 acres to NF. now he is has 15 acres under NF. his other Jain
              brothers have agreed to start NF.A educated young man from Rajasthan was so
              impressed that he vowed to go back to his native village and start NF. "I
              have seen so much contentment and also money in NF which is not there in other
              type of work. that is why I am going back to my roots in my village".many tribal
              farmers who attended the workshop said "Mr Mohanlal had broadcast wheat in our
              farm and we expect 15 quintals (1 quintal=100 kg) per half acre. from now on we
              will use only NF. we are grateful to him". what many saints and scientists have
              failed to do, these simple people have managed to do.the workshop also had Mr
              Subhash Sharma who spoke of growing vegetables using NF techniques. he does not
              overcharge for his naturally grown vegetables and yet is making lots of profit
              part of which he
              distributes as bonus amongst his labour. he loves nature and everyone showed
              their appreciation for his attitude.a few so-called organic farmers were unhappy
              with NF since they were getting good profits in the name of organic produce.
              But the inputs in NF are far lower than chemical farming then why should it be
              more expensive?
              All in all, the workshop was a big success and everyone was able to solve all
              their doubts.
              thank you
              Raju Titus
              Sent from my BSNL landline B-fone

              Warm regards,

              Sumant Joshi
              Tel - 09370010424, 0253-2361161

              --- On Wed, 2/3/11, Raju Titus <rajuktitus@...> wrote:

              From: Raju Titus <rajuktitus@...>
              Subject: Fwd: प्राक्रतिक खेती (EDITED)
              To: "sumant joshi" <sumant.jo@...>, "Yugandhar S." <s.yugandhar@...>
              Date: Wednesday, 2 March, 2011, 12:36 AM

              ---------- Forwarded message ----------
              From: Raju Titus <rajuktitus@...>

              Date: 2011/3/1
              Subject: प्राक्रतिक खेती (EDITED)
              To: editorkrb@..., sanjay pirodia <pirodia.furniture@...>, Supress
              Indore <sps2005@...>, ofai north <ofai.north@...>, Vineet kumar
              Pandey <vineetkumarpandey22@...>, vidhyadas <vidhyadas@...>,
              VOICE OF AMERICA <Hindi@...>, BBC Hindi letter
              <hindi.letters@...>, bharat mansata <bharatmansata@...>, "P.Bapu"
              <icra@...>, "R.N.Berwa" <rnberwa@...>

              प्राक्रतिक खेती


              दो दिवसीय सम्मलेन की रिपोर्ट 27-28 फरवरी 2011


              रतलाम

              विगत दिनों मंगल वाटिका में
              प्राक्रतिक खेती से
              सम्बन्धित एक दो दिवसीय सम्मलेन पिरोदिया परिवार और उनके साथियों के द्वारा
              आयोजित किया गया था जिस में भारत में
              प्राक्रतिक खेती के प्रणेता श्री राजू टाइटस और यवतमाल के
              नेसर्गिक खेती के प्रसिद्ध श्री सुभाषजी शर्मा मुख्य
              अतिथि के रूप में बुलाये गए थे. इस
              सम्मेलन में अनेक गणमान्य लोगों के अलावा दूर दूर से किसान आये थे. यह सम्मलेन मूल
              रूप से
              जुताई आधारित जैविक और अजैविक खेती के उखड़ते कदमो
              से उत्पन्न समस्या से निबटने के लिए बिना जुताई से की जाने वाली प्राक्रतिक
              खेती के बढ़ते मजबूत
              कदमो को समझाने के लिए बुलाई गयी थी.

              अधिकतर लोग ये समझते हैं की
              खेती में उपयोग में आने वाले रसायनों के कारण जमीन ख़राब हो रही है और यदि रसायन
              मुक्त
              खेती की जाये तो समस्या का समाधान हो जायेगा. ये भूल है असल में भारतीय प्राचीन
              परम्परागत खेती में
              अनेक उदाहरन मिलते हैं जब किसान जुताई से ख़राब होती खेती को सुधारने के लिए
              जमीन को पड़ती कर देते
              थे जिस से वो सुधर जाती थी. ऋषि पंचमी का पर्व हमें इसी बात की याद दिलाता है.
              जुताई
              करने से बखरी बारीक मिटटी बरसात के पानी से कीचड़ में तब्दील हो जाती है
              जो पानी जमीन के अंदर जाने नहीं देती है इस लिए पानी तेजी से बहता है और
              टनों जैविक खाद को बहा कर ले जाता है. इस कारण खेत कमजोर हो जाते हैं और खेत
              भूके और प्यासे रह जाते हैं इस लिए खेती घाटे को सौदा बन रही है. हर
              किसान चाहे वो छोटा हो या बड़ा मुसीबत में है तथा इस कारण पूरा विश्व आर्थिक
              ,पर्यावरण और सामाजिक समस्याओं से जूझ
              रहा है. मालवा में पानी
              का अकाल पड़ा है.

              रतलाम का जल स्तर १००० फीट से अधिक नीचे चला गया है. कमजोर
              खेतों में खाद और दवाओं के बल पर कमजोर फसल ही पैदा हो रही, हमारी रोटी में जहर घुल
              गया है इस लिए केंसर जैसी बीमारियाँ पनप रही हैं.
              इसी लिए बिना जुताई ,खाद ,और दवाई से होने वाली खेती का फार्म प्रदर्शन के
              साथ ये दो दिन की कार्य शाला आयोजित की गयी थी. यहाँ वैज्ञानिक जैविक और
              अजैविक खेती के बीच करीब ५ एकड़ में बिना जुताई की प्राक्रतिक खेती में
              गेंहू को उगा कर बताया गया है जिस से सभी लोग तीनो खेती की विधियों के बीच
              तुलनात्मक अध्यन कर स्वं जाने की क्या अंतर है. जुताई आधारित दोनों जैविक
              और अजैविक खेती की विधियों में एक और जहाँ जल,खाद और जैव विवधताओं का छरण
              चरम सीमा पर है वही उत्पादकता ,और गुणवत्ता का अभाव है. वहीँ बिना जुताई
              की प्राक्रतिक खेती में खाद ,पानी और जैव विवधताओं का छरण शुन्य है जबकि
              उत्पादन करीब २ तीनो में सामान्य है.

              इस के अलावा प्राकृतिक खेती में हिंसा बिलकुल
              नहीं है जबकि जुताई से सबसे अधिक हिंसा होती है. जमीन में रहने वाले तमाम
              जीव जंतु, सूक्ष्म जीवाणु पेड़ पोधों की इस में हिंसा होती है. जमीन की
              जुताई करने से जमीन में जमा जैविक खाद (कार्बन), co2 में तब्दील हो जाती है
              आसमान में जमा होकर धरती को कम्बल के समान ढँक लेती है जिस से धरती पर का
              तापमान दिनों दिन बढ़ रहा है. बरसात का पानी जमीन में ना जाकर बह जाने से
              एक और जहाँ सूखे और बाढ़ की समस्या बनी है वहीँ बरसात कम होने लगी है. बिना
              जुताई की खेती के कुदरती अनाज पैदा करने में ८० % लागत की कम आती है. इस
              खेती को करना बहुत आसान है बच्चे और महिलाये भी इसे आसानी से कर सकते हैं.
              केवल बीजों को जमीन पर फेंक कर पिछली फसल के अवशेषों से उसे ढंकने भर से
              ये खेती हो जाती हो और उत्पादन में कोई कमी नहीं आती है. एक और जहाँ जुताई
              आधारित खेती अब मशीनो के बिना संभव नहीं है ये खेती मात्र हंसिये के बल पर
              आसानी से हो जाती है जिस से खेती हर मजदूर को साल भर रोजगार मिलता है. बिना
              जुताई की खेती की दोस्ती छाया से रहती है इस लिए इसे आसानी से पेडों के
              साथ किया जाता है .मशीन से जुताई करने से किसान पेडों का दुश्मन हो गया है
              इस से गोवंश भी लुप्त हो रहा है इसे बचाना है तो बिना जुताई की प्राक्रतिक
              करना ही होगा यह खेती आसानी से चारे के पेडों के साथ की जाती है. हम केवल
              एक गाय की बात नहीं करते हम तो ऐसा वातावरण चाहते हैं जिसमे हाथी भी पल
              जाएँ. हरयाली पैदा करने का ये सर्वोत्तम उपाय है.

              इस कार्य शाला में पधारे १०१ साल के
              स्वतंत्रता सेनानी माननीय श्री चम्पालालजी पिरोदिया ने कहा में भी इस खेती
              को कर सकता हूँ बीजों को फेंक कर मैने इसकी शुरुवाद की है. ये खेती सत्य और
              अहिंसा पर आधारित है सभी को करने चाहिए. इस को कर हम तेल की गुलामी से
              खेती को मुक्त कर सकते हैं. किसानो की आत्म हत्या को रोक सकते हैं.
              श्री मोहन लालजी पिरोदिया जो इस खेती के रतलाम में
              प्रणेता है के भाई श्री मंगल्सिंग्जी ने कहा की हम जैनी बनिया हैं. घाटे
              और हिंसा को बर्दास्त नहीं कर सकते हैं इस लिए इस खेती को अपनाया है.
              उन्होंने १० एकड़ जमीन और इस में दान कर दी है इस प्रकार उनकी कुल १५ एकड़
              जमीन अब इस में लग गयी है.अनेक जैनी बंधुओं ने भी इनकी तरह खेती करने का
              वायदा किया है.
              राजस्थान से पधारे एक पढ़े लिखे नव युवक ने इस
              कार्य शाला से प्रेरित होकर गाँव वापस जाकर खेती करने का प्रण ले लिया है.
              उनका कहना है जितना सुकून और पैसा मुझे इसमें दिख रहा है है वो और किसी काम
              में नहीं है. इस लिए वे वापस गाँव जा रहा हूँ.
              अनेक आदिवासी किसान जो आस पास के गाँवो से आये थे
              ने बताया की श्री मोहनलालजी ने हमारे खेतों में गेंहूं फेंका था वो बहुत
              अच्छा है हमें १५ क्विंटल /बीघा फसल की उम्मीद है. इस लिए अब इसी तरह गेंहू
              बोयेंगे.हम सभी के प्रति अपना आभार मानते हैं. अनेक साधू संतों,जन
              प्रतिनिधियों और वैज्ञानिको ने जो नहीं किया वो इन लोगों ने कर दिखाया है. इस
              कार्य शाला में पधारे श्री सुभाषजी शर्मा जो अनेक सालों से रसायन मुक्त सब्जी की
              खेती कर रहे हैं ने भी किसानो को खेती करने के गुर सिखाये .वे अपने उत्पादों की
              अधिक कीमत नहीं लेते हैं फ़िर भी भर पूर मुनाफा कमाते हैं और मजदूरों को बोनस
              बांटते हैं.वे प्रक्रति प्रेमी हैं सभी ने उनको बहुत सराहा है.

              कुछ नकली जैविक खेती के किसान और विक्रेता इस खेती
              से असंतुस्ट नजर आये क्यों की वे अपने माल का ऊँचा दाम पा रहे हैं.
              प्राकृत असली जैविक है. जो रासायनिक से सस्ता रहता है. इस में मिलावट और
              नकली की कोई सम्भावना नहीं है. जब लागत कम है तो माल महंगा क्यों?
              कुल मिलाकर कम लोगों के बीच की गयी कार्य शाला बहुत ही सफल रही जिस से सभी को
              अपनी समस्याओं का निराकरण करने का मोका मिला.धन्यवादराजू टाइटस

              प्राकृतिक खेती के किसान


              --

              --
              Raju Titus. Hoshangabad. 461001.India.
              +919179738049.
              http://picasaweb.google.com/rajuktitus<http://picasawebalbum.google.com/rajuktitus>


              fukuoka_farming yahoogroup

              --
              Raju Titus. Hoshangabad. 461001.India.
              +919179738049.
              http://picasaweb.google.com/rajuktitus<http://picasawebalbum.google.com/rajuktitus>


              fukuoka_farming yahoogroup

              [Non-text portions of this message have been removed]






              [Non-text portions of this message have been removed]
            • Sumant Joshi
              Well :)) thank you Jason. I am getting appreciated for just sitting at the computer and translating. the real work being done by Rajuji (the ji is to show
              Message 6 of 9 , Mar 3 3:20 AM
              • 0 Attachment
                Well :)) thank you Jason. I am getting appreciated for just sitting at the computer and translating. the real work being done by Rajuji (the ji is to show respect, so it would be Jasonji for you and is pronounced the same as the letter 'g')
                so I guess there is little chance of my getting a 'big head'  but I know what you mean and I appreciate it. I am planning to start NF this year though.


                Sent from my BSNL landline B-fone

                Warm regards,

                Sumant Joshi
                Tel - 09370010424, 0253-2361161

                --- On Thu, 3/3/11, Jason Stewart <macropneuma@...> wrote:

                From: Jason Stewart <macropneuma@...>
                Subject: Re: [fukuoka_farming] translated - Fwd: प्राक्रतिक खेती (EDITED)
                To: fukuoka_farming@yahoogroups.com
                Date: Thursday, 3 March, 2011, 2:36 PM
















                 









                Thank you very much Mr. Raju Titus sensei (meaning educator),

                for your excellent work farming and sharing it with so many keen to learn from

                you, and with your writing it up here.

                I commend you to everyone i come into contact with here and there and

                everywhere! Thank you so Mr. Sumant Joshi for your conscientiousness and

                persisting efforts in translating this and previous.

                .

                Again, i humbly commend this writing to all, according to my previously

                expressed want for more scholarly–based info here amongst us.

                (A few reflections from me:

                I'm confident you already know and that i don't really need to say this next to

                you both, here goes anyway for everyone; Please don't you both (i know you

                won't) get 'a big head' from how good your work is, or anyone by association

                with it, –which it really is that good–, because 'the big head' is precisely

                what ruins the excellence; Precisely what makes each of us complacent and stop

                learning –resting on our laurels– if we become infected by it, 'a big head'.

                Getting out into wild, not wilderness, nature always shrinks a big head back to

                reality again –that's the antidote! haha, with my love for all nature! I know

                from past experiences of sharing..., starting from many years ago! A plain and

                simple way for me to say that is that i commend this writing to all, but at the

                same time nothing is perfect in this mortal world, including this; rather that

                it is much better than most of what else the world has been passing, for

                agricultural education. Perfect is for people's writing that can cure the

                world's farming problems in just one sentence. How's that for a another goal to

                aspire to for perfection of human nature, in the sense of late Mr. Fukuoka

                Masanobu sensei.)

                .

                .

                Biggest best wishes with all,

                .

                Jason Stewart

                —in practice (at the moment in summer season) in the nature farm,

                region:far east gippsland,

                state: Victoria,

                Oz (vernacular for so called Australia).



                ________________________________

                From: Sumant Joshi <sumant_jo@...>

                To: fukuoka farming <fukuoka_farming@yahoogroups.com>

                Sent: Wednesday, March 2, 2011 20:13:33

                Subject: [fukuoka_farming] translated - Fwd: प्राक्रतिक खेती (EDITED)



                Natural Farmingreport on the two day meet cum workshop on 27th and 28th Feb

                2011Ratlam (a district in Madhaya Pradesh)The Pirodia family and friends

                organized a two day meeting cum workshop at Ratlam on Natural farming. I and Mr

                Subhash Sharma, two Natural farmers from India, were invited as chief guests to

                speak on the subject. Farmers and other important people also attended the meet.

                the main aim was to explain problems associated with failure of farming based on

                tilling and artificial fertilizers and pesticides and also to explain the

                improtance of no-till natural farming.Most people in NF are of the opinion that

                it is the artificial fertilizers and pesticides which cause the land to degrade

                and if we remove these, it should be enough to improve it. we forget that

                traditional Indian farmers used to leave the degraded tilled land fallow for a

                period of time and the fertility would recover. The Rishi Panchami festival

                reminds us of this. when we

                till the land, it causes the soil to become like a fine paste during rains which

                prevents water percolating into the soil. Ergo, it just flows away and takes

                with it tons of good natural fertile soil.this causes farms to become weak. they

                neither have good natural fertilizer and nor do they have water. slowly farming

                is becoming a loss making proposition. farmers, whether small or big are all in

                trouble which in turn means the world is in trouble, financially,

                environmentally and socially. the Malwa region here is suffering from drought

                like conditions.The water table in Ratlam has fallen below 1000 feet !! weak

                farmlands are making weak food using artificial fertilizers and pesticides. this

                in turn means we have poison in our daily bread.The two day workshop was planned

                to teach farmers chemicals free farming. 5 acres of naturally farmed land was

                demonstrated along with surrounding farms which were using scientific chemical

                farming so people

                could see for themselves. tilling based organic farming and also chemical

                farming compared very poorly with no-till NF in terms use of water, fertilizers

                and bio-diversity.

                The food produced is also of very poor nutritional quality.In NF there is no

                violence whereas in till based farming there is violence against the

                micro-organisms living in the soil. tilling causes the stored natural fertilizer

                to turn into carbon dioxide which is one of the causes of global warming. since

                rain water isn't allowed to percolate into the soil, alternate drought and

                flooding takes place. On the other hand rainfall itself is showing a reducing

                trend. no-till farming also requires 80% lower capital inputs. NF is easy and

                anyone including little kids can do it.

                broadcasting seeds and covering them with last year's crop residue is enough for

                a good harvest. till based farming isn't possible without machines whereas no

                till NF just needs simple hand operated farming tools. it also affords year long

                income to labourers. no-till farming is friendly towards shady trees whereas

                till based farming is notoriously anti-tree. we aren't talking of allowing

                cows to live, we also want elephants and other living bengs to live on this

                Earth since it is their right. NF is best to create a green world around us.101

                year old Mr Champalal Pirodia told everyone present that even he can do this

                type of farming by just broadcasting seed on the ground and thats how I started.

                NF is based on truth and non-violence. we can make farming independent of (fuel)

                oil slavery and stop farmer suicides.Mr Mohanlalji Pirodia is a practicing NF

                farmer in Ratlam. His brother Mr Mangal Singhji said "we are Jain Bania

                (shopkeeper) caste

                people. we dislike violence and loss which is why we have adopted NF". he has

                added another 10 acres to NF. now he is has 15 acres under NF. his other Jain

                brothers have agreed to start NF.A educated young man from Rajasthan was so

                impressed that he vowed to go back to his native village and start NF. "I

                have seen so much contentment and also money in NF which is not there in other

                type of work. that is why I am going back to my roots in my village".many tribal

                farmers who attended the workshop said "Mr Mohanlal had broadcast wheat in our

                farm and we expect 15 quintals (1 quintal=100 kg) per half acre. from now on we

                will use only NF. we are grateful to him". what many saints and scientists have

                failed to do, these simple people have managed to do.the workshop also had Mr

                Subhash Sharma who spoke of growing vegetables using NF techniques. he does not

                overcharge for his naturally grown vegetables and yet is making lots of profit

                part of which he

                distributes as bonus amongst his labour. he loves nature and everyone showed

                their appreciation for his attitude.a few so-called organic farmers were unhappy

                with NF since they were getting good profits in the name of organic produce.

                But the inputs in NF are far lower than chemical farming then why should it be

                more expensive?

                All in all, the workshop was a big success and everyone was able to solve all

                their doubts.

                thank you

                Raju Titus

                Sent from my BSNL landline B-fone



                Warm regards,



                Sumant Joshi

                Tel - 09370010424, 0253-2361161



                --- On Wed, 2/3/11, Raju Titus <rajuktitus@...> wrote:



                From: Raju Titus <rajuktitus@...>

                Subject: Fwd: प्राक्रतिक खेती (EDITED)

                To: "sumant joshi" <sumant.jo@...>, "Yugandhar S." <s.yugandhar@...>

                Date: Wednesday, 2 March, 2011, 12:36 AM



                ---------- Forwarded message ----------

                From: Raju Titus <rajuktitus@...>



                Date: 2011/3/1

                Subject: प्राक्रतिक खेती (EDITED)

                To: editorkrb@..., sanjay pirodia <pirodia.furniture@...>, Supress

                Indore <sps2005@...>, ofai north <ofai.north@...>, Vineet kumar

                Pandey <vineetkumarpandey22@...>, vidhyadas <vidhyadas@...>,

                VOICE OF AMERICA <Hindi@...>, BBC Hindi letter

                <hindi.letters@...>, bharat mansata <bharatmansata@...>, "P.Bapu"

                <icra@...>, "R.N.Berwa" <rnberwa@...>



                प्राक्रतिक खेती



                दो दिवसीय सम्मलेन की रिपोर्ट 27-28 फरवरी 2011



                रतलाम



                विगत दिनों मंगल वाटिका में

                प्राक्रतिक खेती से

                सम्बन्धित एक दो दिवसीय सम्मलेन पिरोदिया परिवार और उनके साथियों के द्वारा

                आयोजित किया गया था जिस में भारत में

                प्राक्रतिक खेती के प्रणेता श्री राजू टाइटस और यवतमाल के

                नेसर्गिक खेती के प्रसिद्ध श्री सुभाषजी शर्मा मुख्य

                अतिथि के रूप में बुलाये गए थे. इस

                सम्मेलन में अनेक गणमान्य लोगों के अलावा दूर दूर से किसान आये थे. यह सम्मलेन मूल

                रूप से

                जुताई आधारित जैविक और अजैविक खेती के उखड़ते कदमो

                से उत्पन्न समस्या से निबटने के लिए बिना जुताई से की जाने वाली प्राक्रतिक

                खेती के बढ़ते मजबूत

                कदमो को समझाने के लिए बुलाई गयी थी.



                अधिकतर लोग ये समझते हैं की

                खेती में उपयोग में आने वाले रसायनों के कारण जमीन ख़राब हो रही है और यदि रसायन

                मुक्त

                खेती की जाये तो समस्या का समाधान हो जायेगा. ये भूल है असल में भारतीय प्राचीन

                परम्परागत खेती में

                अनेक उदाहरन मिलते हैं जब किसान जुताई से ख़राब होती खेती को सुधारने के लिए

                जमीन को पड़ती कर देते

                थे जिस से वो सुधर जाती थी. ऋषि पंचमी का पर्व हमें इसी बात की याद दिलाता है.

                जुताई

                करने से बखरी बारीक मिटटी बरसात के पानी से कीचड़ में तब्दील हो जाती है

                जो पानी जमीन के अंदर जाने नहीं देती है इस लिए पानी तेजी से बहता है और

                टनों जैविक खाद को बहा कर ले जाता है. इस कारण खेत कमजोर हो जाते हैं और खेत

                भूके और प्यासे रह जाते हैं इस लिए खेती घाटे को सौदा बन रही है. हर

                किसान चाहे वो छोटा हो या बड़ा मुसीबत में है तथा इस कारण पूरा विश्व आर्थिक

                ,पर्यावरण और सामाजिक समस्याओं से जूझ

                रहा है. मालवा में पानी

                का अकाल पड़ा है.



                रतलाम का जल स्तर १००० फीट से अधिक नीचे चला गया है. कमजोर

                खेतों में खाद और दवाओं के बल पर कमजोर फसल ही पैदा हो रही, हमारी रोटी में जहर घुल

                गया है इस लिए केंसर जैसी बीमारियाँ पनप रही हैं.

                इसी लिए बिना जुताई ,खाद ,और दवाई से होने वाली खेती का फार्म प्रदर्शन के

                साथ ये दो दिन की कार्य शाला आयोजित की गयी थी. यहाँ वैज्ञानिक जैविक और

                अजैविक खेती के बीच करीब ५ एकड़ में बिना जुताई की प्राक्रतिक खेती में

                गेंहू को उगा कर बताया गया है जिस से सभी लोग तीनो खेती की विधियों के बीच

                तुलनात्मक अध्यन कर स्वं जाने की क्या अंतर है. जुताई आधारित दोनों जैविक

                और अजैविक खेती की विधियों में एक और जहाँ जल,खाद और जैव विवधताओं का छरण

                चरम सीमा पर है वही उत्पादकता ,और गुणवत्ता का अभाव है. वहीँ बिना जुताई

                की प्राक्रतिक खेती में खाद ,पानी और जैव विवधताओं का छरण शुन्य है जबकि

                उत्पादन करीब २ तीनो में सामान्य है.



                इस के अलावा प्राकृतिक खेती में हिंसा बिलकुल

                नहीं है जबकि जुताई से सबसे अधिक हिंसा होती है. जमीन में रहने वाले तमाम

                जीव जंतु, सूक्ष्म जीवाणु पेड़ पोधों की इस में हिंसा होती है. जमीन की

                जुताई करने से जमीन में जमा जैविक खाद (कार्बन), co2 में तब्दील हो जाती है

                आसमान में जमा होकर धरती को कम्बल के समान ढँक लेती है जिस से धरती पर का

                तापमान दिनों दिन बढ़ रहा है. बरसात का पानी जमीन में ना जाकर बह जाने से

                एक और जहाँ सूखे और बाढ़ की समस्या बनी है वहीँ बरसात कम होने लगी है. बिना

                जुताई की खेती के कुदरती अनाज पैदा करने में ८० % लागत की कम आती है. इस

                खेती को करना बहुत आसान है बच्चे और महिलाये भी इसे आसानी से कर सकते हैं.

                केवल बीजों को जमीन पर फेंक कर पिछली फसल के अवशेषों से उसे ढंकने भर से

                ये खेती हो जाती हो और उत्पादन में कोई कमी नहीं आती है. एक और जहाँ जुताई

                आधारित खेती अब मशीनो के बिना संभव नहीं है ये खेती मात्र हंसिये के बल पर

                आसानी से हो जाती है जिस से खेती हर मजदूर को साल भर रोजगार मिलता है. बिना

                जुताई की खेती की दोस्ती छाया से रहती है इस लिए इसे आसानी से पेडों के

                साथ किया जाता है .मशीन से जुताई करने से किसान पेडों का दुश्मन हो गया है

                इस से गोवंश भी लुप्त हो रहा है इसे बचाना है तो बिना जुताई की प्राक्रतिक

                करना ही होगा यह खेती आसानी से चारे के पेडों के साथ की जाती है. हम केवल

                एक गाय की बात नहीं करते हम तो ऐसा वातावरण चाहते हैं जिसमे हाथी भी पल

                जाएँ. हरयाली पैदा करने का ये सर्वोत्तम उपाय है.



                इस कार्य शाला में पधारे १०१ साल के

                स्वतंत्रता सेनानी माननीय श्री चम्पालालजी पिरोदिया ने कहा में भी इस खेती

                को कर सकता हूँ बीजों को फेंक कर मैने इसकी शुरुवाद की है. ये खेती सत्य और

                अहिंसा पर आधारित है सभी को करने चाहिए. इस को कर हम तेल की गुलामी से

                खेती को मुक्त कर सकते हैं. किसानो की आत्म हत्या को रोक सकते हैं.

                श्री मोहन लालजी पिरोदिया जो इस खेती के रतलाम में

                प्रणेता है के भाई श्री मंगल्सिंग्जी ने कहा की हम जैनी बनिया हैं. घाटे

                और हिंसा को बर्दास्त नहीं कर सकते हैं इस लिए इस खेती को अपनाया है.

                उन्होंने १० एकड़ जमीन और इस में दान कर दी है इस प्रकार उनकी कुल १५ एकड़

                जमीन अब इस में लग गयी है.अनेक जैनी बंधुओं ने भी इनकी तरह खेती करने का

                वायदा किया है.

                राजस्थान से पधारे एक पढ़े लिखे नव युवक ने इस

                कार्य शाला से प्रेरित होकर गाँव वापस जाकर खेती करने का प्रण ले लिया है.

                उनका कहना है जितना सुकून और पैसा मुझे इसमें दिख रहा है है वो और किसी काम

                में नहीं है. इस लिए वे वापस गाँव जा रहा हूँ.

                अनेक आदिवासी किसान जो आस पास के गाँवो से आये थे

                ने बताया की श्री मोहनलालजी ने हमारे खेतों में गेंहूं फेंका था वो बहुत

                अच्छा है हमें १५ क्विंटल /बीघा फसल की उम्मीद है. इस लिए अब इसी तरह गेंहू

                बोयेंगे.हम सभी के प्रति अपना आभार मानते हैं. अनेक साधू संतों,जन

                प्रतिनिधियों और वैज्ञानिको ने जो नहीं किया वो इन लोगों ने कर दिखाया है. इस

                कार्य शाला में पधारे श्री सुभाषजी शर्मा जो अनेक सालों से रसायन मुक्त सब्जी की

                खेती कर रहे हैं ने भी किसानो को खेती करने के गुर सिखाये .वे अपने उत्पादों की

                अधिक कीमत नहीं लेते हैं फ़िर भी भर पूर मुनाफा कमाते हैं और मजदूरों को बोनस

                बांटते हैं.वे प्रक्रति प्रेमी हैं सभी ने उनको बहुत सराहा है.



                कुछ नकली जैविक खेती के किसान और विक्रेता इस खेती

                से असंतुस्ट नजर आये क्यों की वे अपने माल का ऊँचा दाम पा रहे हैं.

                प्राकृत असली जैविक है. जो रासायनिक से सस्ता रहता है. इस में मिलावट और

                नकली की कोई सम्भावना नहीं है. जब लागत कम है तो माल महंगा क्यों?

                कुल मिलाकर कम लोगों के बीच की गयी कार्य शाला बहुत ही सफल रही जिस से सभी को

                अपनी समस्याओं का निराकरण करने का मोका मिला.धन्यवादराजू टाइटस



                प्राकृतिक खेती के किसान





                --



                --

                Raju Titus. Hoshangabad. 461001.India.

                +919179738049.

                http://picasaweb.google.com/rajuktitus<http://picasawebalbum.google.com/rajuktitus>



                fukuoka_farming yahoogroup



                --

                Raju Titus. Hoshangabad. 461001.India.

                +919179738049.

                http://picasaweb.google.com/rajuktitus<http://picasawebalbum.google.com/rajuktitus>



                fukuoka_farming yahoogroup



                [Non-text portions of this message have been removed]



                [Non-text portions of this message have been removed]





























                [Non-text portions of this message have been removed]
              • seaseal
                Dear Sumant Joshi. RE the remarks of Raju Titus you translated: Most people in NF are of the opinion that it is the artificial fertilizers and pesticides which
                Message 7 of 9 , Mar 4 9:22 AM
                • 0 Attachment
                  Dear Sumant Joshi.

                  RE the remarks of Raju Titus you translated: Most people in NF are of the opinion that it is the artificial fertilizers and pesticides which cause the land to degrade and if we remove these, it should be enough to improve it. …when we till the land, it causes the soil to become like a fine paste during rains which prevents water percolating into the soil. Ergo, it just flows away and takes with it tons of good natural fertile soil. … they neither have good natural fertilizer and nor do they have water. …In NF there is no violence whereas in till based farming there is violence against the micro-organisms living in the soil. …Warm regards, Sumant Joshi

                  I am a retired teacher in the U.S.A. who has returned to college to study Horticulture. I also use worm compost bins to compost all food waste from a local soup kitchen that feeds about 150 people a day. I get about 40-100 pounds of food scraps like melon rinds, potato peels and waste (uneaten food from people's plates) a day. My chickens eat much of that. Everything left over goes into the worm bin compost.

                  I liked what you said about no-till Natural Farming. It is especially important to realize artificial fertilizers and pesticides will kill not only micro soil organisms but will kill all earthworms also.

                  To ensure fertile soil, you must return organic matter (meaning plant-based materials such as leaves, fruit rinds, vegetable scraps) to the soil. When there is sufficient organic matter, it does several things to ensure fertility.
                  ---it retains moisture in the soil
                  ---it helps the soil microorganisms by feeding them, providing habitat, and keeping the moisture level right for their survival
                  ---it provides nutrients to return to plant roots
                  ---it prevents erosion.

                  My plant materials all go through the worm compost bins (and the chickens), so lots of additional micro organisms are added back to the soil also.

                  Without adding sufficient plant materials back into the soil, it becomes as you describe it:

                  ---the soil is not fertile
                  ---the soil becomes like a fine paste
                  ---water does not percolate into the soil
                  ---water flows away, carrying the organic plant materials with it
                  ---the microorganisms have nothing to live in or eat
                  ---without natural organic plant materials, the soil is no longer fertile as microorganisms that transfer nutrients from the soil to the plant roots have died.

                  If you would like information on building and maintaining worm compost bins, I can help you. I realize obtaining sufficient plant-based materials might be difficult, but without enough organic materials in your soil, you will continue to see the water flow away and nutrition levels drop.

                  In many places, including India, the Americas and Japan, manure is also used to add plant materials back into the soil, but I believe it must be composted first to get the best use of it.

                  I hope this helps. It seemed the key part on plant matter was missing from the Raju Titus article posted on the Fukuoka email list.

                  Cecile
                  seaseal@...

                  It rains from under the earth and not from the sky.
                  ~ Masanobu Fukuoka
                • Ruthie Aquino
                  If I may humbly comment...for I am no expert... Masanobu Fukuoka, without discouraging it, does not promote composting. Maybe that s why you added your last
                  Message 8 of 9 , Mar 4 1:48 PM
                  • 0 Attachment
                    If I may humbly comment...for I am no expert...
                    Masanobu Fukuoka, without discouraging it, does not promote composting.
                    Maybe that's why you added your last line, you thought he did not care about
                    plant matter.
                    When he reaped his rice and wheat he put the stalks immediately and directly
                    back to the field, without chopping them up first.

                    best
                    RUTHIE

                    2011/3/4 seaseal <seaseal@...>

                    >
                    >
                    > Dear Sumant Joshi.
                    >
                    > RE the remarks of Raju Titus you translated: Most people in NF are of the
                    > opinion that it is the artificial fertilizers and pesticides which cause the
                    > land to degrade and if we remove these, it should be enough to improve it.
                    > �when we till the land, it causes the soil to become like a fine paste
                    > during rains which prevents water percolating into the soil. Ergo, it just
                    > flows away and takes with it tons of good natural fertile soil. � they
                    > neither have good natural fertilizer and nor do they have water. �In NF
                    > there is no violence whereas in till based farming there is violence against
                    > the micro-organisms living in the soil. �Warm regards, Sumant Joshi
                    >
                    > I am a retired teacher in the U.S.A. who has returned to college to study
                    > Horticulture. I also use worm compost bins to compost all food waste from a
                    > local soup kitchen that feeds about 150 people a day. I get about 40-100
                    > pounds of food scraps like melon rinds, potato peels and waste (uneaten food
                    > from people's plates) a day. My chickens eat much of that. Everything left
                    > over goes into the worm bin compost.
                    >
                    > I liked what you said about no-till Natural Farming. It is especially
                    > important to realize artificial fertilizers and pesticides will kill not
                    > only micro soil organisms but will kill all earthworms also.
                    >
                    > To ensure fertile soil, you must return organic matter (meaning plant-based
                    > materials such as leaves, fruit rinds, vegetable scraps) to the soil. When
                    > there is sufficient organic matter, it does several things to ensure
                    > fertility.
                    > ---it retains moisture in the soil
                    > ---it helps the soil microorganisms by feeding them, providing habitat, and
                    > keeping the moisture level right for their survival
                    > ---it provides nutrients to return to plant roots
                    > ---it prevents erosion.
                    >
                    > My plant materials all go through the worm compost bins (and the chickens),
                    > so lots of additional micro organisms are added back to the soil also.
                    >
                    > Without adding sufficient plant materials back into the soil, it becomes as
                    > you describe it:
                    >
                    > ---the soil is not fertile
                    > ---the soil becomes like a fine paste
                    > ---water does not percolate into the soil
                    > ---water flows away, carrying the organic plant materials with it
                    > ---the microorganisms have nothing to live in or eat
                    > ---without natural organic plant materials, the soil is no longer fertile
                    > as microorganisms that transfer nutrients from the soil to the plant roots
                    > have died.
                    >
                    > If you would like information on building and maintaining worm compost
                    > bins, I can help you. I realize obtaining sufficient plant-based materials
                    > might be difficult, but without enough organic materials in your soil, you
                    > will continue to see the water flow away and nutrition levels drop.
                    >
                    > In many places, including India, the Americas and Japan, manure is also
                    > used to add plant materials back into the soil, but I believe it must be
                    > composted first to get the best use of it.
                    >
                    > I hope this helps. It seemed the key part on plant matter was missing from
                    > the Raju Titus article posted on the Fukuoka email list.
                    >
                    > Cecile
                    > seaseal@...
                    >
                    > It rains from under the earth and not from the sky.
                    > ~ Masanobu Fukuoka
                    >
                    >
                    >


                    [Non-text portions of this message have been removed]
                  Your message has been successfully submitted and would be delivered to recipients shortly.