Loading ...
Sorry, an error occurred while loading the content.

Press Release

Expand Messages
  • drprem singh
    *Date: 07 June 2013* *Defer FYUP: An appeal from Raj Ghat* Dr. Prem Singh, a teacher and alumnus of Delhi University, has undertaken a THREE DAY FAST to
    Message 1 of 10 , Jun 7, 2013
    • 1 Attachment
    • 15 KB

    Date: 07 June 2013

    Defer FYUP: An appeal from Raj Ghat

     

                Dr. Prem Singh, a teacher and alumnus of Delhi University, has undertaken a THREE DAY FAST to express his anguish and pain at the hurried and unthinking implementation of the Four Year Undergraduate Programme (FYUP).  On the occasion of the end of his fast, we, his supporters and co-protestors, would appeal to the Vice Chancellor to listen to the voice of reason and defer the FYUP  to allow the university community to thoroughly discuss its intent, design, content and logistics so that it does not adversely impact the students admitted to this course.  We request him to not reduce the FYUP to a matter of personal prestige but to prioritize the interests of the young women and men who are attracted to DU because of the academic credibility it has earned through the work of its teachers, researchers and students over the past ninety years.  Leading educationists and scholars of differing intellectual and political persuasions have offered reasoned and convincing arguments against the design, content and manner of implementation the FYUP.  They have also appealed to various authorities to defer it for at least a year.  The academic community is disappointed at the disdain with which the DU authorities have trashed these concerns without addressing their substance.

                The very fact that – after prolonged inaction – the UGC has finally been compelled to set up a committee to track the progress of the FYUP and to suggest corrective measures is proof that there is substance in the critiques of the program.  It is high time the university authorities realized that rushing through a pedagogically unsound programme that dilutes existing standards of excellence would cause immense damage to the image of DU as India’s leading undergraduate university that has also produced pioneering research across the disciplines.  We request the esteemed members of the Advisory Committee to carefully examine FYUP in all its aspects and to immediately begin the urgent task of addressing its numerous flaws.   This vital exercise will be rendered meaningless without a deferral, which alone will provide the necessary time for careful course corrections.  We also appeal to the Honourable President, Shri Pranab Mukherjee, the Visitor of DU, to perform his duty as the supreme authority of the university and repair the damage already done by deferring the FYUP in order to protect the interests of the thousands of students who would enroll in the undergraduate programme this year.

     

                Rajindar Sachar (Former Chief Justice, Delhi High court) Kuldip Nayar (Veteran Journalist) Rajendra Yadav (Eminent Writer) Sandeep Pandey (Magsaysay award winner and activist )

    Satish Deshpandey (Department of Sociology, D.U) Ravi Kiran jain (Vice President, PUCL) Anil Nauria (Senior Fellow NMML) Dr. Raj Kumar Jain (Former DU Teacher) Udit Raj (Political Activist) Shaswati Majumdar (Dptt. Of Germanic & Romance Studies) Sanam Khanana (Dptt. Of English, kamala Nehru College) Vikram Singh (Dptt. Of Hindi, Desh Bandhu College) Mukul mangali (Dptt. Of History, Ramjas College) Vibhas Chandra Verma (Dptt. Of Hindi, Desh Bandhu College) Ashwani Kumar (Dptt. Of Hindi, Motilal Nehru College evening) Shanatanu Das (Dptt. Of History, Dayal Singh College) Apoorvanand (Dptt. of Hindi, D.U) Kumkum Yadav (Dptt. Of English, SND khalsa College)

  • Shyamsunder Pasrija
    Dear SirThousands of wrongs are being done under the pressure of corporates by the congress and BJP. We need change in appropriate political thinking. Every
    Message 2 of 10 , Jun 7, 2013
    • 0 Attachment
      Dear Sir
      Thousands of wrongs are being done under the pressure of corporates by the congress and BJP. We need change in appropriate political thinking. Every thing will be O.K. Suggest the method of change and do some practical.
      Shyam Sunder Pasrija, General Secretary, Socialist Janata Party.

      From: drprem singh <drpremsingh8@...>
      Sent: Fri, 07 Jun 2013 14:35:47
      To: aajsamaj.bureau@..., adityarj27@..., admin@..., admin@..., ajay kumar <ajay443@...>, Akhilesh Kumar <akhil05twarit@...>, aloksanwal@..., "amalendu.upadhyay" <amalendu.upadhyay@...>, Amit Rana <ranainmedia@...>, anil manchanda <anilmanchanda1@...>, anil sagar <delhi.anilsagar@...>, anilkchaturvedi@..., anilmanchanda.ibn7@..., anoop_hh <anoop_hh@...>, anoop@..., anthony@..., arkitectindia@yahoogroups.com, arunbinjola@..., ashok kinker <ashokkinker@...>, ashokkalkur@..., ashokkinkar@..., ashokmanoram@..., ashwani011@..., ashwanik@..., asian@..., assignment@..., atripathi@..., attri_journalist@..., Atul Kumar <atul.kumaar@...>, banglore@..., basant.mohanty@..., "bhadas4media ." <bhadas4media@...>, Bhagirath Srivas <bhagirathsrivas@...>, bharat-chintan@..., bhati.raju@..., birendra.nbt@..., BLEditor@..., cee@..., citynews.jansatta@..., cj@..., contact@..., csedel@..., dailysouthasian@..., dainik_medha@..., deccan@..., decnet@..., dilbar.gothi@..., edit.big@..., editor.hastakshep@..., editor@..., editor@..., editor@..., editor@..., editor@..., editor@..., editor@..., epaperth@..., epwl@..., express@..., Faizan Haidar <reporterfaizan@...>, feedback@..., feedback@..., feedback@..., gomantak@..., habib akhtar <habibakhtar0001@...>, "harimohan.mishra" <harimohan.mishra@...>, "harimohan.mishra11" <harimohan.mishra@...>, harishsahdev@..., "Harivansh ." <harivansh@...>, harivansh@..., haveeru@..., herald@..., himalmag@..., Hindustan Times <feedback@...>, hindustanexpress@..., hppltd@..., htedo@..., humanscape@..., iaindia@..., iapi@..., india-news@..., The Indian Express <editor@...>, inews@..., info@..., info@..., info@..., info@..., info@..., ipsindia@..., ishwarnjha@..., Jagdish Upasane <jagdish.upasane@...>, jaideep.bose@..., janataweekly <janataweekly@...>, "jansatta.noi" <jansatta.noi@...>, just_kumar@..., kkgoenka@..., lata.starnews@..., letters@..., letters@..., live media <livemedianews@...>, mail@..., mail@..., mail@..., mailto.editor@..., manoj_express@..., manojjansatta1 <manojjansatta1@...>, mausam.sharma@..., mdaaa40@..., medasia@..., medhaonline@..., mid-day@..., mml@..., mtbedit@..., naeemphotographer@..., nashik.times@..., naveen sharma <naveenphoto@...>, naveenkgautam@..., navhind@..., nbtbindaasbol@..., news@..., newstrustofindia@..., nid@..., nnsonline@..., nvirai@..., observer@..., observer@..., oibs@..., panchal79@..., Pankaj Puniya <pankajpuniya@...>, parulsharma@..., parveendahiya.in@..., pioneer.edit@..., pioneer@..., "pr.ranajn" <pr.ranajn@...>, pratikkriya@..., ptidel@..., PWAP@yahoogroups.com, raichandan@..., Raj Verma <rajaajtak@...>, Rajeev Dutt <duttrajeev@...>, Rajesh Bhasin <raj1969@...>, rajesh.inn@..., rajnishnair@..., ranchi@..., ratneshmishra7000@..., ravish@..., reportersgeneral@..., respons@..., response@..., response@..., rjbhushan@..., rkdutta@..., sabrang@..., Samvad Haryana <editorsamvad@...>, sanjaykesari@..., sanjaysania@..., sanjaysanjay2@..., sarvesh0908@..., sharmaashok@..., shravangarg@..., sudarshannews@..., sudarshantv@..., svani@..., syndications@..., tavishisingh@..., teenathacker@..., the_telegraph_india@..., thehindu@..., times@..., toieditorial@..., topstory_2007@..., trans@..., vibhatribune@..., vipin_kr_sharma123@..., virendramehta@..., vivekwkl@..., vkhatwani@..., vstiwari1969@..., web@..., webmaster@..., webmaster@..., webmaster@..., wecare@..., yadrambansal@..., "za.bharti" <za.bharti@...>
      Subject: [Arkitect India] Press Release [1 Attachment]
       
      [Attachment(s) from drprem singh included below]

      Date: 07 June 2013

      Defer FYUP: An appeal from Raj Ghat

       

                  Dr. Prem Singh, a teacher and alumnus of Delhi University, has undertaken a THREE DAY FAST to express his anguish and pain at the hurried and unthinking implementation of the Four Year Undergraduate Programme (FYUP).  On the occasion of the end of his fast, we, his supporters and co-protestors, would appeal to the Vice Chancellor to listen to the voice of reason and defer the FYUP  to allow the university community to thoroughly discuss its intent, design, content and logistics so that it does not adversely impact the students admitted to this course.  We request him to not reduce the FYUP to a matter of personal prestige but to prioritize the interests of the young women and men who are attracted to DU because of the academic credibility it has earned through the work of its teachers, researchers and students over the past ninety years.  Leading educationists and scholars of differing intellectual and political persuasions have offered reasoned and convincing arguments against the design, content and manner of implementation the FYUP.  They have also appealed to various authorities to defer it for at least a year.  The academic community is disappointed at the disdain with which the DU authorities have trashed these concerns without addressing their substance.

                  The very fact that – after prolonged inaction – the UGC has finally been compelled to set up a committee to track the progress of the FYUP and to suggest corrective measures is proof that there is substance in the critiques of the program.  It is high time the university authorities realized that rushing through a pedagogically unsound programme that dilutes existing standards of excellence would cause immense damage to the image of DU as India’s leading undergraduate university that has also produced pioneering research across the disciplines.  We request the esteemed members of the Advisory Committee to carefully examine FYUP in all its aspects and to immediately begin the urgent task of addressing its numerous flaws.   This vital exercise will be rendered meaningless without a deferral, which alone will provide the necessary time for careful course corrections.  We also appeal to the Honourable President, Shri Pranab Mukherjee, the Visitor of DU, to perform his duty as the supreme authority of the university and repair the damage already done by deferring the FYUP in order to protect the interests of the thousands of students who would enroll in the undergraduate programme this year.

       

                  Rajindar Sachar (Former Chief Justice, Delhi High court) Kuldip Nayar (Veteran Journalist) Rajendra Yadav (Eminent Writer) Sandeep Pandey (Magsaysay award winner and activist )

      Satish Deshpandey (Department of Sociology, D.U) Ravi Kiran jain (Vice President, PUCL) Anil Nauria (Senior Fellow NMML) Dr. Raj Kumar Jain (Former DU Teacher) Udit Raj (Political Activist) Shaswati Majumdar (Dptt. Of Germanic & Romance Studies) Sanam Khanana (Dptt. Of English, kamala Nehru College) Vikram Singh (Dptt. Of Hindi, Desh Bandhu College) Mukul mangali (Dptt. Of History, Ramjas College) Vibhas Chandra Verma (Dptt. Of Hindi, Desh Bandhu College) Ashwani Kumar (Dptt. Of Hindi, Motilal Nehru College evening) Shanatanu Das (Dptt. Of History, Dayal Singh College) Apoorvanand (Dptt. of Hindi, D.U) Kumkum Yadav (Dptt. Of English, SND khalsa College)



      Get your own FREE website and domain with business email solutions, click here
    • drprem singh
      The following appeal had been sent to the President for his intervention. Dr. Prem Singh Department of Hindi (University of Delhi) 9873276726 Date: 07 June
      Message 3 of 10 , Jun 8, 2013
      • 1 Attachment
      • 15 KB
      The following appeal had been sent to the President for his intervention.


      Dr. Prem Singh
      Department of Hindi
      (University of Delhi)
      9873276726





      Date: 07 June 2013

      Defer FYUP: An appeal from Raj Ghat

      Dr. Prem Singh, a teacher and alumnus of Delhi University, has undertaken a THREE DAY FAST to express his anguish and pain at the hurried and unthinking implementation of the Four Year Undergraduate Programme (FYUP).  On the occasion of the end of his fast, we, his supporters and co-protestors, would appeal to the Vice Chancellor to listen to the voice of reason and defer the FYUP to allow the university community to thoroughly discuss its intent, design, content and logistics so that it does not adversely impact the students admitted to this course.  We request him to not reduce the FYUP to a matter of personal prestige but to prioritize the interests of the young women and men who are attracted to DU because of the academic credibility it has earned through the work of its teachers, researchers and students over the past ninety years.  Leading educationists and scholars of differing intellectual and political persuasions have offered reasoned and convincing arguments against the design, content and manner of implementation the FYUP.  They have also appealed to various authorities to defer it for at least a year.  The academic community is disappointed at the disdain with which the DU authorities have trashed these concerns without addressing their substance.

      The very fact that – after prolonged inaction – the UGC has finally been compelled to set up a committee to track the progress of the FYUP and to suggest corrective measures is proof that there is substance in the critiques of the program.  It is high time the university authorities realized that rushing through a pedagogically unsound programme that dilutes existing standards of excellence would cause immense damage to the image of DU as India’s leading undergraduate university that has also produced pioneering research across the disciplines.  We request the esteemed members of the Advisory Committee to carefully examine FYUP in all its aspects and to immediately begin the urgent task of addressing its numerous flaws.   This vital exercise will be rendered meaningless without a deferral, which alone will provide the necessary time for careful course corrections.  We also appeal to the Honourable President, Shri Pranab Mukherjee, the Visitor of DU, to perform his duty as the supreme authority of the university and repair the damage already done by deferring the FYUP in order to protect the interests of the thousands of students who would enrol in the undergraduate programme this year. 

      Rajindar Sachar (Former Chief Justice, Delhi High Court), Kuldip Nayar (Veteran Journalist), Rajendra Yadav (Eminent Writer), Dr. Sandeep Pandey (Magsaysay Award Winner)Satish Deshpandey (Department of Sociology, D.U), Ravi Kiran Jain (National Vice President, PUCL), Anil Nauriya (Senior Fellow NMML), Dr. Raj Kumar Jain (Former DU Teacher), Udit Raj (Political Activist), Shaswati Mazumdar (Dept. of Germanic & Romance Studies, DU), Sanam Khanna (Dept. of English, kamala Nehru College, DU), Bikram Singh (Dept. of Hindi, Desh Bandhu College, DU), Mukul Mangalik (Dept. of History, Ramjas College, DU), Vibhas Chandra Verma (Dept. of Hindi, Desh Bandhu College, DU) Ashwani Kumar (Dept. of Hindi, Motilal Nehru College Evening, DU) Shantanu Das (Dept. of History, Dayal Singh College, DU), Apoorvanand (Dept. of Hindi, D.U) Kumkum Yadav (Dept. of English, SGND khalsa College, DU) and many others.


    • drprem singh
      Date : 15 December 2013 *Press Release* *Uditraj Salutes Anti-Reservationist Kejriwal!* Mr. Uditraj, national chairman, All India Confederation of SC/ST
      Message 4 of 10 , Dec 15, 2013
      • 1 Attachment
      • 16 KB

      Date : 15 December 2013

       

       

      Press Release

       

      Uditraj Salutes Anti-Reservationist Kejriwal!

       

      Mr. Uditraj, national chairman, All India Confederation of SC/ST Organisations (AICSO) and president, Justice Party, has invited the Aam Aadmi Party’s national convener Arvind Kejriwal to state his stand on policy of reservation in a rally to be held on 16 December 2013 in Delhi.  Uditraj, who is acknowledged as a learned leader, has been active in the politics for the last one and a half decades. He has always been against the neo-liberal policies which are opposed to the reservation policy enshrined in the Constitution. It is surprising that Uditraj still does not know Arvind Kejriwal’s stand on reservation.  It is a common knowledge that Arvind Kejriwal and his lieutenant Manish Sisodia are anti-reservationists, rightists and casteists – serving interests of forward castes. This is evident from their NGO’s, India Against Corruption (IAC) team that they put together and now the share-holders, views and activities of the Aam Aadmi Party. 

             Their involvement in the formation, funding and leadership of the organization Youth For Equality (YFE) which was formed in 2006 to oppose the government’s decision to provide 27 % reservation to the students of backward classes in  Central Universities, IITs, Medical Colleges and IIMs, is well known. The Socialist Party urges Uditraj to use this occasion to ask Kejriwal about his views on the anti-reservation fires spread after the implementation of the Mandal Commission recommendations. Uditraj has an in-depth understanding about the   doctrinal and ideological basis of corporate capitalism. Kejriwal and his party is a direct product of corporate capitalism that has no place for the principle of reservation. Kejriwal is not only opposed to the reservation of the backwards but also for SC/STs. Uditraj should understand that Kejriwal has the financial and political support of corporate houses and forward castes in India and abroad for this very reason. On the basis of this support, he wants to do politics of serving the interests of the forward castes by taking along the power hungry backwards and Dalits. In the words of Baba Saheb Ambedkar, this is called ‘political dacoity’.

      It is possible that Kejriwal might endorse the SC/ST reservation while attending the rally. But it will only be his political gimmick, and not truth. By achieving some political success through communal politics, even Narendra Modi may declare himself to be a secular leader. Atal Behari Vajpayee and Lal Krishan Advani have also done this earlier.

      Uditraj’s invitation to Kejriwal, ignoring many other parties and leaders fighting the battle of socialism and social justice, is akin to saluting the rising sun in the political corridors.  Socialist Party believes that this decision of his will weaken the position of the socialist/social justice politics which opposes neo-liberalism. The Socialist Party requests Uditraj to withdraw his invitation to Kejriwal in the interest of the Constitution and bahujan samaj.

       

      Dr. Prem Singh

      General Secretary and spokesperson

      Mobile: 9873276726

       

       

       

    • drprem singh
      1 जून 2014 प्रैस रिलीज *सोशलिस्‍ट पार्टी सार्वजनिक क्षेत्र और
      Message 5 of 10 , Jun 1, 2014
      • 0 Attachment

        1 जून 2014

         

        प्रैस रिलीज

        सोशलिस्‍ट पार्टी सार्वजनिक क्षेत्र और धारा 370 के लिए प्रतिबद्ध

        शिक्षा, पानी, चुनाव सुधार और अल्‍पसंख्‍यकों की बेहतरी पर जनजागरण अभियान चलाएगी

         

        सोशलिस्‍ट पार्टी की राष्‍टीय कार्यकारिणी की दो-दिवसीय बैठक पार्टी अध्‍यक्ष भाई वैद्य की अध्‍यक्षता में दिल्‍ली में संपन्‍न हुईा बैठक में लोकसभा चुनाव के नतीजों की समीक्षा की गई, राजनीतिक-आर्थिक प्रस्‍ताव पारित किए गए और अगले पांच साल के लिए पार्टी का कार्यक्रम तय किया गयाा बैठक में विभिन्‍न राज्‍यों से आए राष्‍टीय कार्यकारिणी समिति के सदस्‍यों, राज्‍य इकाइयों के अध्‍यक्षों के अलावा विशेष आमंत्रित सदस्‍यों के रूप में डॉ जीजी पारिख, रविकिरण जैन, डॉ सुनीलम, श्‍याम गंभीर और अनिल नौरिया ने हिस्‍सा लियाा पार्टी के महासचिव डॉ प्रेम सिंह ने सभी आगंतुकों का स्‍वागत कियाा  

        अपने अध्‍यक्षीय वक्‍तव्‍य में भाई वैद्य ने कहा कि आरएसएस ने कारपोरेट और मीडिया को साथ लेकर सांप्रदायिक ध्रुवीकरण के सहारे यह चुनाव जीता हैा यूपीए सरकार की नवउदारवादी नीतियों और भ्रष्‍टाचार के खिलाफ अगर टिकाऊ तीसरे मोर्चे का गठन हो जाता तो भाजपा को पूर्ण बहुमत नहीं मिल पाताा पैसा पानी की तरह बहाने के बावजूद भाजपा को केवल 31 प्रतिशत मतदाताओं ने अपना समर्थन दिया हैा भाई वैद्य ने कहा कि भाजपानीत एनडीए सरकार कांग्रेस की नवउदारवादी नीतियों को और तेजी से परवान चढाएगी तथा आरएसएस अपना संविधान और समाज विरोधी सांप्रदायिक अजेंडा थोपने की पूरी कोशिश करेगाा सरकार ने पहले दिन से ही नवउदारवादी और सांप्रदायिक अजेंडा लागू करना शुरू कर दिया हैा इससे जनता की तकलीफें और ज्‍यादा बढेंगीा इस नए नवउदारवादी-सांप्रदायिक गठजोड का मुकागला करने के लिए उन्‍होंने सोशलिस्‍ट-कम्‍युनिस्‍ट एकता कायम करने का आहवान कियाा

        पार्टी के वरिष्‍ठ सदस्‍य जस्टिस राजेंद्र सच्‍चर ने कहा कि जिस जमात ने आजादी के संघर्ष  का विरोध किया और गांधी जी की हत्‍या की, उसका पूर्ण बहुमत के साथ सत्‍ता में आना गहरी चिंता का सबब हैा सोशलिस्‍ट पार्टी के कार्यकर्ताओं को चाहिए कि वे आजादी और संविधान के मूल्‍यों तथा लोकतांत्रिक संस्‍थाओं की मजबूती के लिए पूरे देश में जमीनी स्‍तर जुट कर काम करेंा उन्‍होंने खास कर युवा कार्यकर्ताओं से कहा कि यह उनकी जिम्‍मेदारी बनती है कि वे नवउदारवादी नीतियों से तबाह जनता के बीच जाकर समझाएं कि निजीकरण के रहते शिक्षा, स्‍वास्‍थ्‍य, पानी, बिजली जैसी उनकी मूलभूत जरूरतें कभी पूरी नहीं हो सकतींा

        बैठक में पारित प्रस्‍ताव में सोशलिस्‍ट पार्टी ने एक बार फिर पूर्ण रोजगार गारंटी कानून बनाने की मांग रखीा पार्टी ने सार्वजनिक क्षेत्र के पक्ष में अपनी प्रतिबद्धता जाहिर करते हुए रक्षा जैसे संवेदनशील विभाग में 100 प्रतिशत निजी/विदेशी निवेश के सरकार के फैसले का विरोध किया, क्‍योंकि रक्षा का सवाल देश की संप्रभुता और आजादी से जुडा हैा पार्टी ने पॉवर और रेलवे जैसे जनता की जरूरतों से जुडे महत्‍वपूर्ण विभागों के निजीकरण और बाल्‍को तथा भेल जैसी कंपनियों के विनिवेशीकरण का भी विरोध कियाा सोशलिस्‍ट पार्टी ने प्रस्‍ताव में देश को आगाह किया है कि सार्वजनिक क्षेत्र के उपक्रमों को एक होल्डिंग कंपनी के अंतर्गत लाने की जो बात सरकार कर रही है, उसके पीछे उसकी नीयत उन्‍हें निजी क्षेत्र को बेचने की हो सकती हैा   

        प्रस्‍ताव में सोशलिस्‍ट पार्टी ने वर्तमान सरकार में मंत्री नजमा हेपतुल्‍ला के मुसलमानों को अल्‍पसंख्‍यक नहीं मानने के संविधान विरोधी बयान की कडी निंदा और विरोध किया हैा पार्टी ने मंत्री के उस बयान का भी विरोध किया है जिसमें अल्‍पसंख्‍यकों के लिए पिछले तीन दशकों से जारी 15 सूत्री कार्यक्रम को बंद करने की बात की गई हैा पार्टी की मांग है कि यह जरूरी कार्यक्रम सभी अल्‍पसंख्‍यक समुदायों के नुमाइंदों के साथ विचार-विमर्श करके और प्रभावी और मजबूत बनाया जाना चाहिएा प्रस्‍ताव में धारा 370 को समाप्‍त करने की सरकार की मंशा का कडा विरोध किया हैा इरोम शर्मिला के सत्‍याग्रह का एक बार फिर समर्थन करते हुए अफस्‍पा को हटाने की मांग दोहराई गई हैा

        चुनाव सुधार पर पारित प्रस्‍ताव में मांग की गई है कि कारपोरेट घरानों द्वारा राजनीतिक पार्टियों को चुनाव के लिए धन देने पर रोक लगे, केवल उम्‍मीदवारों का ही नहीं, पार्टी के चुनाव खर्च का हिसाब भी मांगा जाए, उम्‍मीदवारों के लिए जमानत की राशि विधानसभा में दो हजार और संसद में पांच हजार रखी जाए, चुनाव का खर्च सीधे सरकार उठाएा मौजूदा मतदान प्रणाली के अनुसार 33 प्रतिशत वोट पाने वाली पार्टी को 60 प्रतिशत सीटें मिल जाती हैं और आठ-दस प्रतिशत वोट पाने वाली पार्टियों को एक भी सीट नहीं मिल पातीा सोशलिस्‍ट पार्टी ने मांग की है कि एक नई प्रणाली अपनाई जाए जिसके तहत मिलने वाले वोट के अनुपात में राजनीतिक पार्टियों को सीट मिलेंा खास कर इलैक्‍टॉनिक मीडिया ने इस बार के लोकसभा चुनाव में बडी भूमिका निभाई हैा यह आम धारणा है कि उसकी यह भूमिका तटस्‍थ और तथ्‍याधारित न होकर पक्षपातपूर्ण और भ्रम फैलाने वाली रही हैा आगे ऐसा न हो, इलैक्‍टॉनिक मीडिया के नियमन के लिए भारतीय प्रैस परिषद जैसी संस्‍था का गठन किया जाना चाहिएा  

        बैठक में फैसला किया गया कि सोशलिस्‍ट पार्टी शिक्षा और पानी के बाजारीकरण के खिलाफ, चुनाव सुधारों के पक्ष में और अल्‍पसंख्‍यकों की सुरक्षा व बेहतरी के लिए अगले पांच सालों में जनजागरण अभियान चलाएगीा

        सोशलिस्‍ट पार्टी का मानना है कि वैकल्पिक विकास के मॉडल का आधार गांधी और लोहिया का चिंतन हो सकता हैा सोशलिस्‍ट पार्टी को भारत की ‘ग्रीन पार्टी’ के रूप में विकसित करने के विचार के तहत राष्‍टीय कार्यकारिणी की बैठक में ‘विकास और जलवायु परिवर्तन की समस्‍या’ पर एक विशेष सत्र आयोजित किया गयाा सत्र को प्रोफेसर सनत मोहंती, भारत डोगरा, संदीप पांडे और मोनिष बब्‍बर ने संबोधित कियाा

        एक विशेष सत्र लोक राजनीति मंच, जिसकी स्‍थापना 2009 के लोकसभा चुनाव के पहले की गई थी, के तत्‍वावधान में आयोजित किया गया जिसे रविकिरण जैन, शमशेर सिंह बिष्‍ट, कमला, मंजू मोहन, संदीप पांडे, डॉ प्रेम सिंह समेत कई जनांदोलनकारियों व बुद्धिजीवियों ने संबोधित कियाा चर्चा के बाद यह फैसला किया गया कि दरपेश राजनीतिक चुनौतियों के मद्देनजर लोक राजनीति मंच को ज्‍यादा सक्रिय और प्रभावी बनाया जाएगाा

        सोशलिस्‍ट पार्टी दिल्‍ली की अध्‍यक्ष रेणु गंभीर ने सभी प्रतिभागियों का धन्‍यवाद कियाा   

         

        डॉ प्रेम सिंह

        महासचिव/प्रवकता

        मोबाइल 9873276726  

      • Arun Khote
        साथियों, इस रिपोर्ट को जारी करने के लिये धन्यवाद ! पुरे देश
        Message 6 of 10 , Jun 8, 2014
        • 0 Attachment
          साथियों,

          इस रिपोर्ट को जारी करने के लिये धन्यवाद !

          पुरे देश में जिस तरह से दबे कुचले वर्ग की महिलाओ और दलितों पर अत्याचारों और उत्पीडन की घटनाओ में बहुत तेजी आई है और अब जब इस समय यह मुद्दे केन्द्रीय बहस में हैं ऐसे समय में आपकी रिपोर्ट में इसका चर्चा का न होना तकलीफदेह है.

          एक समग्र जन आन्दोलन के लिये देश के दबे कुचले वर्गों के मुद्दों को शामिल करके उन्हें नेतृत्व में भूमिका देना समावादी आंदोलनों के लिये अति महत्वपूर्ण चुनौती है.

          धन्यवाद !



          ARUN KHOTE
          PMARC





          2014-06-01 19:00 GMT+05:30 drprem singh drpremsingh8@... [arkitectindia] <arkitectindia@yahoogroups.com>:
           

          1 जून 2014

           

          प्रैस रिलीज

          सोशलिस्‍ट पार्टी सार्वजनिक क्षेत्र और धारा 370 के लिए प्रतिबद्ध

          शिक्षा, पानी, चुनाव सुधार और अल्‍पसंख्‍यकों की बेहतरी पर जनजागरण अभियान चलाएगी

           

          सोशलिस्‍ट पार्टी की राष्‍टीय कार्यकारिणी की दो-दिवसीय बैठक पार्टी अध्‍यक्ष भाई वैद्य की अध्‍यक्षता में दिल्‍ली में संपन्‍न हुईा बैठक में लोकसभा चुनाव के नतीजों की समीक्षा की गई, राजनीतिक-आर्थिक प्रस्‍ताव पारित किए गए और अगले पांच साल के लिए पार्टी का कार्यक्रम तय किया गयाा बैठक में विभिन्‍न राज्‍यों से आए राष्‍टीय कार्यकारिणी समिति के सदस्‍यों, राज्‍य इकाइयों के अध्‍यक्षों के अलावा विशेष आमंत्रित सदस्‍यों के रूप में डॉ जीजी पारिख, रविकिरण जैन, डॉ सुनीलम, श्‍याम गंभीर और अनिल नौरिया ने हिस्‍सा लियाा पार्टी के महासचिव डॉ प्रेम सिंह ने सभी आगंतुकों का स्‍वागत कियाा  

          अपने अध्‍यक्षीय वक्‍तव्‍य में भाई वैद्य ने कहा कि आरएसएस ने कारपोरेट और मीडिया को साथ लेकर सांप्रदायिक ध्रुवीकरण के सहारे यह चुनाव जीता हैा यूपीए सरकार की नवउदारवादी नीतियों और भ्रष्‍टाचार के खिलाफ अगर टिकाऊ तीसरे मोर्चे का गठन हो जाता तो भाजपा को पूर्ण बहुमत नहीं मिल पाताा पैसा पानी की तरह बहाने के बावजूद भाजपा को केवल 31 प्रतिशत मतदाताओं ने अपना समर्थन दिया हैा भाई वैद्य ने कहा कि भाजपानीत एनडीए सरकार कांग्रेस की नवउदारवादी नीतियों को और तेजी से परवान चढाएगी तथा आरएसएस अपना संविधान और समाज विरोधी सांप्रदायिक अजेंडा थोपने की पूरी कोशिश करेगाा सरकार ने पहले दिन से ही नवउदारवादी और सांप्रदायिक अजेंडा लागू करना शुरू कर दिया हैा इससे जनता की तकलीफें और ज्‍यादा बढेंगीा इस नए नवउदारवादी-सांप्रदायिक गठजोड का मुकागला करने के लिए उन्‍होंने सोशलिस्‍ट-कम्‍युनिस्‍ट एकता कायम करने का आहवान कियाा

          पार्टी के वरिष्‍ठ सदस्‍य जस्टिस राजेंद्र सच्‍चर ने कहा कि जिस जमात ने आजादी के संघर्ष  का विरोध किया और गांधी जी की हत्‍या की, उसका पूर्ण बहुमत के साथ सत्‍ता में आना गहरी चिंता का सबब हैा सोशलिस्‍ट पार्टी के कार्यकर्ताओं को चाहिए कि वे आजादी और संविधान के मूल्‍यों तथा लोकतांत्रिक संस्‍थाओं की मजबूती के लिए पूरे देश में जमीनी स्‍तर जुट कर काम करेंा उन्‍होंने खास कर युवा कार्यकर्ताओं से कहा कि यह उनकी जिम्‍मेदारी बनती है कि वे नवउदारवादी नीतियों से तबाह जनता के बीच जाकर समझाएं कि निजीकरण के रहते शिक्षा, स्‍वास्‍थ्‍य, पानी, बिजली जैसी उनकी मूलभूत जरूरतें कभी पूरी नहीं हो सकतींा

          बैठक में पारित प्रस्‍ताव में सोशलिस्‍ट पार्टी ने एक बार फिर पूर्ण रोजगार गारंटी कानून बनाने की मांग रखीा पार्टी ने सार्वजनिक क्षेत्र के पक्ष में अपनी प्रतिबद्धता जाहिर करते हुए रक्षा जैसे संवेदनशील विभाग में 100 प्रतिशत निजी/विदेशी निवेश के सरकार के फैसले का विरोध किया, क्‍योंकि रक्षा का सवाल देश की संप्रभुता और आजादी से जुडा हैा पार्टी ने पॉवर और रेलवे जैसे जनता की जरूरतों से जुडे महत्‍वपूर्ण विभागों के निजीकरण और बाल्‍को तथा भेल जैसी कंपनियों के विनिवेशीकरण का भी विरोध कियाा सोशलिस्‍ट पार्टी ने प्रस्‍ताव में देश को आगाह किया है कि सार्वजनिक क्षेत्र के उपक्रमों को एक होल्डिंग कंपनी के अंतर्गत लाने की जो बात सरकार कर रही है, उसके पीछे उसकी नीयत उन्‍हें निजी क्षेत्र को बेचने की हो सकती हैा   

          प्रस्‍ताव में सोशलिस्‍ट पार्टी ने वर्तमान सरकार में मंत्री नजमा हेपतुल्‍ला के मुसलमानों को अल्‍पसंख्‍यक नहीं मानने के संविधान विरोधी बयान की कडी निंदा और विरोध किया हैा पार्टी ने मंत्री के उस बयान का भी विरोध किया है जिसमें अल्‍पसंख्‍यकों के लिए पिछले तीन दशकों से जारी 15 सूत्री कार्यक्रम को बंद करने की बात की गई हैा पार्टी की मांग है कि यह जरूरी कार्यक्रम सभी अल्‍पसंख्‍यक समुदायों के नुमाइंदों के साथ विचार-विमर्श करके और प्रभावी और मजबूत बनाया जाना चाहिएा प्रस्‍ताव में धारा 370 को समाप्‍त करने की सरकार की मंशा का कडा विरोध किया हैा इरोम शर्मिला के सत्‍याग्रह का एक बार फिर समर्थन करते हुए अफस्‍पा को हटाने की मांग दोहराई गई हैा

          चुनाव सुधार पर पारित प्रस्‍ताव में मांग की गई है कि कारपोरेट घरानों द्वारा राजनीतिक पार्टियों को चुनाव के लिए धन देने पर रोक लगे, केवल उम्‍मीदवारों का ही नहीं, पार्टी के चुनाव खर्च का हिसाब भी मांगा जाए, उम्‍मीदवारों के लिए जमानत की राशि विधानसभा में दो हजार और संसद में पांच हजार रखी जाए, चुनाव का खर्च सीधे सरकार उठाएा मौजूदा मतदान प्रणाली के अनुसार 33 प्रतिशत वोट पाने वाली पार्टी को 60 प्रतिशत सीटें मिल जाती हैं और आठ-दस प्रतिशत वोट पाने वाली पार्टियों को एक भी सीट नहीं मिल पातीा सोशलिस्‍ट पार्टी ने मांग की है कि एक नई प्रणाली अपनाई जाए जिसके तहत मिलने वाले वोट के अनुपात में राजनीतिक पार्टियों को सीट मिलेंा खास कर इलैक्‍टॉनिक मीडिया ने इस बार के लोकसभा चुनाव में बडी भूमिका निभाई हैा यह आम धारणा है कि उसकी यह भूमिका तटस्‍थ और तथ्‍याधारित न होकर पक्षपातपूर्ण और भ्रम फैलाने वाली रही हैा आगे ऐसा न हो, इलैक्‍टॉनिक मीडिया के नियमन के लिए भारतीय प्रैस परिषद जैसी संस्‍था का गठन किया जाना चाहिएा  

          बैठक में फैसला किया गया कि सोशलिस्‍ट पार्टी शिक्षा और पानी के बाजारीकरण के खिलाफ, चुनाव सुधारों के पक्ष में और अल्‍पसंख्‍यकों की सुरक्षा व बेहतरी के लिए अगले पांच सालों में जनजागरण अभियान चलाएगीा

          सोशलिस्‍ट पार्टी का मानना है कि वैकल्पिक विकास के मॉडल का आधार गांधी और लोहिया का चिंतन हो सकता हैा सोशलिस्‍ट पार्टी को भारत की ‘ग्रीन पार्टी’ के रूप में विकसित करने के विचार के तहत राष्‍टीय कार्यकारिणी की बैठक में ‘विकास और जलवायु परिवर्तन की समस्‍या’ पर एक विशेष सत्र आयोजित किया गयाा सत्र को प्रोफेसर सनत मोहंती, भारत डोगरा, संदीप पांडे और मोनिष बब्‍बर ने संबोधित कियाा

          एक विशेष सत्र लोक राजनीति मंच, जिसकी स्‍थापना 2009 के लोकसभा चुनाव के पहले की गई थी, के तत्‍वावधान में आयोजित किया गया जिसे रविकिरण जैन, शमशेर सिंह बिष्‍ट, कमला, मंजू मोहन, संदीप पांडे, डॉ प्रेम सिंह समेत कई जनांदोलनकारियों व बुद्धिजीवियों ने संबोधित कियाा चर्चा के बाद यह फैसला किया गया कि दरपेश राजनीतिक चुनौतियों के मद्देनजर लोक राजनीति मंच को ज्‍यादा सक्रिय और प्रभावी बनाया जाएगाा

          सोशलिस्‍ट पार्टी दिल्‍ली की अध्‍यक्ष रेणु गंभीर ने सभी प्रतिभागियों का धन्‍यवाद कियाा   

           

          डॉ प्रेम सिंह

          महासचिव/प्रवकता

          मोबाइल 9873276726  


        Your message has been successfully submitted and would be delivered to recipients shortly.