Loading ...
Sorry, an error occurred while loading the content.

GBGB-More then 40 people are on 24 Hrs. protest hunger strike Including Medha Patker

Expand Messages
  • NAPM India
    *घर बचाव – घर बनाओ आंदोलन* *पडाव – गणेश कृपा सोसायटी**, **गोळीबार
    Message 1 of 1 , Apr 4, 2013

    घर बचाव – घर बनाओ आंदोलन

    पडाव – गणेश कृपा सोसायटी, गोळीबार रोड, खार (पूर्व), मुंबई


    गोळीबार मे २४ घंटे का निषेध अनशन


    दि. ०४/०४/२०१३

    प्रति,

    मुख्यमंत्री श्री पृथ्वीराज चव्हान / प्रमुख सचिव श्री देवाशिष चक्रवर्ती

    श्री निर्मलकुमार देशमुख - सी. . . - एस. आर. .


    आप यह निश्चित रुप से जानते है कि गोलीबार, अन्य S.R.A. परियोजनाओं (मुंबई) मे बहुत सारी प्रक्रिया और निर्णय गैरकानूनी तरीके से लिये गये है! इन अपराधी बिल्डर्स के दबाव मे हजारो लोगोंको सालोंसे बेघर होकर अपना अधिकार भी खोने की और धकेला गया है! कई transit कॅम्प मे, कई भाडे के घरो मे सालों से पडे है! गणेश कृपा सोसायटी, “गोळीबार” क्षेत्रकी अन्य सोसायटियों के संबंध मे कागजातो और कुछ जाचके आधारपर यह बात साबित हुई है कि सही सहमती के लिये बिना कार्यवाही आगे बढायी गयी! ७० से ८० साल पुराने घरोंको तोडनेके लिए कोर्टकी कोई ऐकाध आदेश का आधार लिया जाता है लेकीन लोगोंको अपने भविष्यकी निश्चिती हो, इस तऱहसे कोई अनुबंध तक नही करते हुए, लोगोंके अपने खून – पसीने – मेहनत से बनाये गये घरो को, लोगोंको गिरफ्तार करके या पुलिस बल, गुंडे खडे करके घर तोडना यह बिल्कुल ही “विकास” के विरोधमे है! इससे महिलाओ, बच्चो पर अत्याचार हो ही रहे है, पर साथही कानून और नियमोंकी तोडमरोड होकर, शासन का ही अधिकार खत्म हो रहा है !

    गणेश कृपा सोसायटी, संयुक्त जागृती, पंचशील, एकता सोसायटी के लोगोंके साथ पिछले कूछ दिनोंमे कई प्रकारसे अत्याचार अन्याय हुआ है ! लोगो की, महिलाओंकी शिकायतों पर कार्यवाही करने के बदले झूठी केसेस ईमानदार लोगों पर ही डालकर उन्हे हैरान करने की दमनात्मक रीती शासन अपना रही है! डेप्युटी कलेक्टर से लेकर एस. आर. . और पुलिस अधिकारीओं का व्यवहार पक्षपाती है! केंद्रीय मंत्री श्री अजय माकनजी के मुख्यमंत्रीजीको लिखे पत्र को प्रतिसाद देनेके बदले आज भी चांदिवली, सायन – कोलीवाडा जैसे एस. आर. . के पुनर्विकास परियोजना तथा गणपत पाटील नगर, सिद्धार्थ नगर (चार बंगला) जैसी बस्तीयोंको उजाडना जारी है! यह भी अविश्वसनीय है!

    प्रमुख सचिव गृहनिर्माण के नेतृत्वमे ६ प्रकल्पों – S. R. A. / redevelopment परियोजनाओं की जांच जारी होते हुए और उसके निष्कर्ष तय नही होते हुये, एकेक करके उन्ही परियोजनाओं मे पुलिसी बल पर निष्कासन आगे बढाना बेहद धोखाधडी है!

    कानून का उल्लघन जिन बिल्डर्स ने किया है उनकी ओरसे कोर्ट के आदेश का हवाला देकर सरकार को धमकाना समझके पार है! इसलिये इस पूरे अन्याय और बेरहमी का निषेध करते हुए आज गोळीबार की बस्तियों तथा अन्य बस्तियोंके कुल ३० से अधिक प्रतिनिधियोने हमारे साथ २४ घंटेका निषेधात्मक अनशन करना तय कियां और शुरू भी किया है !

    इस समय आपकी और से क्या जवाब है, क्या समस्याओं / सवालोंका निराकरण होता है या नही, यह देखकर हम आगे का कदम तय करेंगे! आज भी आपको आग्रह के साथ कहना चाहते है कि:

    • केंद्रीय गृहनिर्माण मंत्री के पत्र मे लिखे तमाम मुद्दे, मुंबई के गरीब, मेहनतकश, ईमानदार सेवक, श्रमिकोंके अधिकारोंकी बात सोचते हुए घरोंको बेरह्मी से उजाडना त्वरित रोक दे!

    • बिल्डरोंके विविध अपराधोंकी विशेष पुलिस अधिकारीको हमारी सहमति से नियुक्त करके शिकायतोंकी दखल लेकर जाचं करे, कार्यवाही करे !

    • गोलीबार के गणेशकृपा और अन्य सोसायटियों के विवाद्के के हर मुद्दे पर संवाद के द्वारा जवाब दे ! क्या S. R. A. scheme के हर प्रावधान का पालन हुआ है इसका जवाब दे!

    • प्रमुख सचिव द्वारा की जा रही जांच पूरी होने तक उन परियोजनाओंमे कोई बलपूर्वक उजाडना नही होगा इसकी निश्चिती दे!

    • शिवालिक वेंचर के खिलाफ गैर कानूनी निर्माण कार्य के लिये नाला सोपारा, बृहन मुंबई महानगर पालिका, उच्च न्यायालय आदिके आदेश होते हुए भी अंमल नही हुआं है, वह कराये!



    धन्यवाद

    मेधा पाटकर – प्रेरणा गायकवाड – मंदा माने – भारती मेस्त्री – सुलोचना तांदळेकर – संतोष थोरात – एलेक्स फेर्नंडीस – आबा तांडेल – इम्तियाज भाई – कृष्णा नायर – अजित पाटील – संदीप येवले – सुमीत वाजाले



    --
    ===============================================
    National Alliance of People’s Movements
    National Office : 6/6, Jangpura B, Mathura Road, New Delhi 110014
    Phone : 011 26241167 / 24354737 Mobile : 09818905316
    Web : www.napm-india.org
    Twitter : @napmindia
Your message has been successfully submitted and would be delivered to recipients shortly.