Loading ...
Sorry, an error occurred while loading the content.

19737Re: [किताबकौपी :2043] Re: अं ग्रेजीयत के वर्चस्व के विरुद्ध जन(भारतीय) भाष ाओं के मुद्दे पर कामरे डो की चुप्पी खल रही है ।

Expand Messages
  • Ashwini Singh
    Jul 25, 2014
      URDU and hindi are not two different language (reference Dr Radhe Shyam Sukla- bhasha aur samaj ). this division is surfaced. and part of divide and rule policy...
       This is responsibility of university teacher to provide literature. Urdu-hindi medium are symbolic. neither administration nor professor have made any effort in this regard.  In 50 minute class teachers use more then 45 in speaking in english. in last two three minute they tell if any body unable to understand can ask in Hindi( hindustani-language) 
      These professor are real killer of student like Anil meena , S. Dhry laxmi.etc except elite class lot of students from north and south east and west  of rural, sub-urban background had made suicide due Elite Class Language(That is English) .... 
      out of top 50 university of asia 49 run in there own regional language. they have all literature in there language. India top university have not any literature in local language. ..
      urdu-hindi medun is symbolic and for making fool .. Eng is real...  

      English medium is crime . and so-called intellectual is doing it....
      see..



       these are few cases...

      On Fri, Jul 25, 2014 at 5:52 AM, Sarwat Ali <ali.sarwat@...> wrote:
      BoxbeThis message is eligible for Automatic Cleanup! (ali.sarwat@...) Add cleanup rule | More info

      Uplabdh karayein hindi aur Urdu mein literature for our students , we have all three mediums of instruction but no good reading for them 


      2014-07-19 2:06 GMT-07:00 Dr.Ashok Kumar Tiwari <dr.ashokkumartiwari@...>:

      अंग्रेजी मानसिकता के प्राचार्य श्री सुंदरम के0 डी0 अम्बानी विद्यामंदिर रिलायंस टाउनशिप जामनगर से 20-26 साल के अनुभवी शिक्षकों को महज इसलिए निकलवा दिए हैं कि वे शिक्षक राष्टृभाषा- हिंदी के हैं और जब हिंदी दिवस (14सितम्बर 2010) के दिन सुंदरम ने माइक पर कहा था " हिंदी राष्ट्रभाषा नहीं है हिंदी शिक्षक आपको गलत पढ़ाते हैं " तो इन हिंदी शिक्षकों ने उनसे असहमति जताई थी ....................................................................मुकेश अम्बानी की पत्नी नीता अम्बानी उस विद्यालय की चेयरमैन हैं -- रिलायंस कम्पनी के के0 डी0 अ‍म्बानी विद्यालय में भी अन्याय चल रहा है, 11-11 साल काम कर चुके स्थाई हिंदी टीचर्स को निकाला जाता है क्योंकि वे राष्ट्रभाषा हिंदी के हैं, पाकिस्तान से सटे इस सीमावर्ती क्षेत्र में राष्ट्रभाषा हिंदी वा राष्ट्रीयता का विरोध तथा उसपर ये कहना कि सभी हमारी जेब में हैं रावण की याद ताजा कर देता है अंजाम भी वही होना चाहिए..... !!!!! जय हिंद......... ! जय हिंदी......... !!!

      Contact for details– 9428075674 ,     dr.ashokkumartiwari@...



      2014-07-17 11:26 GMT+05:30 RP Shahi <rpshahi@...>:

       शर्मा जी के उत्तर को मेरा समर्थन है ,

       सन्दर्भ में अपनी चीन  यात्रा का अनुभव बंटाना चाहता हूँ ,

      कुनमिंग शहर में बड़े बड़े मॉल, या शहर के  दुकानो में  की वे लोग इंग्लिश नहीं जानते हैं और हम लोगो को दिन भर में शायद एक लोग ही ऐसे मिले जो टूटी फूटी इंग्लिश में इशारों से बात समझ या  सकते हैं ,
        किन्तु  किसी भी व्यक्ति या गाइड नहीं लगा की बात का कुछ भी अफ़सोस है , वे अपने भाषा में बोल रहे   और इशारों से ही हम लोगों के  रहे थे , बैंक में भी ,
       आत्मग्लानि सी होने लगी , आज मेरे देश में अगर कोई बिना इंग्लिश जाने  मॉल में चला जाये तो वहां सेल्स  नाजर से देखने लगेंगें ? यहाँ हमें लगता है की विकास की सीढी  इंग्लिश ही है , परन्तु उनके विकास और इंग्लिश की अज्ञानता देख कर  से भी नहीं लगा ,




      On Thu, Jul 17, 2014 at 9:59 AM, Ashwini Singh <ashwini.economics@...> wrote:
      BoxbeThis message is eligible for Automatic Cleanup! (ashwini.economics@...) Add cleanup rule | More info

      आप रूस जपान और चीन का उदाहरण देती है । दूनियाँ में किसी भी भाषा में कोई साहित्य(विज्ञान समाजिक विज्ञान आदि) छपे वह कुछ समय बाद जपानी में उपलब्ध होता है । दिल्ली में विज्ञान की किताब सिर्फ अंग्रेजी में मिलती है जबकि यु पी में आई. आई टी की तैयारी की पुस्तके भी भारतीय भाषा में उपलब्ध है । जिस रूस और चीन की दूहाई देते कामरेड नहीं थकते...............i WILL CONTINUE ..LIGHT HAS GONE ...


      On Thu, Jul 17, 2014 at 7:42 AM, Sarwat Ali <ali.sarwat@...> wrote:
      BoxbeThis message is eligible for Automatic Cleanup! (ali.sarwat@...) Add cleanup rule | More info

      Please let me know where are the books in Hindi or any other regional languages for higher education. How will students learn with out books. 


      On Mon, Jul 14, 2014 at 11:11 PM, Dr.V.N. Sharma <vnsh44@...> wrote:
      Dear Madam, 
      1. It is not clear where are you getting the idea of imposing Hindi when people in the forum are talking about the Indian languages which are basically regional languages. It is natural that people from Hindi speaking areas will talk about Hindi not being in use. Similarly Tamilians, Telugus etc will talk about their language not being used. You are harping against Hindi but no body is talking to impose Hindi. 
      2. The countries mentioned above solved their problem of multi language controversies and use one language for the purpose of central Governance. Their States use their own. They dont use English. So if English is not used by these countries it is not a globalised language. Advocating English comes from slave mentality.
      3. Why in India English could not be replaced by Indian languages in  67 years? Do we rediscover the wheels? 
      4. Why English used only by 3-4% should continue to be used for 100% of different language using people?
      5. If Hindi becomes an RSS approach what is the approach of Comrades on the Language issue?

      --
      डा वी एन शर्मा / Dr.V.N.Sharma
      Chairman, Federation of Retired SAIL Employees
      President, SAIL Ex-Employees Association
      Chairman, Jharkhand Vigyan Manch, Ranchi
      Academic Association with National Institute of Foundry & Forge Technology (NIFFT), Ranchi University in Env & Water Mgt.
      Cell No.9431102680, 06512441524


      15 जुलाई 2014 को 9:30 am को, Sarwat Ali <ali.sarwat@...> ने लिखा:

      RUSSIA , CHINA, JAPAN,GERMANY  HAVE SOLUTION BUT INDIAN ELITE HAVE NO SOLUTION.

      ​All these countries have books for higher education in their own language, are we prepared . 
      South is not willing to accept Hindi. Why cant you talk about bilingualism and multilingualism, why cant we teach English well, what is wrong with the language. In this globalized world it has become a need. 



      2014-07-14 4:52 GMT-07:00 Shiksha Adhikar <kagazkalam09@...>:

      Ashwini,

      How right you are !!!  This attitude of going tangential on the important issues concerning basic issues of the common mass is why Comrades have come to this pass. And they are best in Thethrology. When I was in Delhi organising AIFRTE Dharna / Rally I saw them from very close quarters and saw this 'I know all' attitude of their leaders. Those who had voted for the RTE Act in Parlliament (it was passed unanimously) were opposed to it in my presence. I bluntly asked them " How come you opposed and still it was passed unanimously. They did not count your opposition? The answer was looking towards another Comrade. You can understand my problem when I was treated like a call boy or ball boy for two months Jan-Feb 2010 to help organise AIFRTE rally in Delhi when each of the hundreds of Comrades in DU, JNU and Jamia Millia were having their both classical and modern types of engagements in the comfort of their homes. You have to look now for new breed of comrades - in-arms. Let the older ones continue to be happy with charmers.
      vns



      सोमवार, 14 जुलाई 2014 10:28:48 am UTC+5:30 को, Ashwini ने लिखा:

      RESPECTED MAM & ALL

      Except elite class all have alternative of English..  95 % of population have alternative. Only Elite class have no alternative. It is comfort of elite class that English still continue in court-administration  and higher education in  India..

      If talking about Indian languages is RSS agenda then there is no agenda left with Left.  It means that Left is making fool to people by talking Common School System.

      If Supreme Court   High court, Administration, Parliament AIIMS , IIT, DU etc  cannot run in Indian language. In that case School also cannot run in Indian language. Poor people also move toward unrecognised private English medium school.

      ENGLISH  IS SAME FOR INDIA.

      AT LEST TAKE EXAMPLE  FROM FORMAR USSSR. WHERE ALL USSSR LANGUAGES ARE KNOWN AS RUSSIAN LANGUAGE. AND ADMINISTRATION AND HIGHER EDUCATION INSTITUTE RUN IN THERE REGIONAL LANGUAGE.

      RUSSIA , CHINA, JAPAN,GERMANY  HAVE SOLUTION BUT INDIAN ELITE HAVE NO SOLUTION.

      THEY TAKE SALARY FROM POOR PEOPLE AND ENJOY HOLIDAY WITH  USA FRIENDS… I AM SORRY TO SAY THIS.

      NOW I CAN UNDERSTAND , WHY PEOPLE DON’T GATHER  IN COMRADE MEETING…

      WITH REGARD

      ASHWINI



      2014-07-14 8:16 GMT+05:30 Sarwat Ali <ali.s...@...>:
      If he is against English he must come up with the alternative. Opposing English and not suggesting the alternative does not make sense. He can not suggest the alternative because there is none existing. 


      2014-07-13 19:39 GMT-07:00 Dr.V.N. Sharma <vns...@...>:
      Dear Dr. Sarwat Ali,
      Your 2nd para reads He is talking about Hindi as medium of instruction,  Pl. read once again there is no mention of Hindi at all, not to talk of Hindi as a medium of instruction. He is talking against English alright and for the good of the people. 

      And the second part : Where are the Comrades in the game of language?

      There are no dearth of books in English but why do we have dearth of books in Indian languages even after 67 years of Independence. What attempts have been made to get the books/ literatures available in Indian languages?


      --
      डा वी एन शर्मा / Dr.V.N.Sharma
      Chairman, Federation of Retired SAIL Employees
      President, SAIL Ex-Employees Association
      Chairman, Jharkhand Vigyan Manch, Ranchi
      Academic Association with National Institute of Foundry & Forge Technology (NIFFT), Ranchi University in Env & Water Mgt.
      Cell No.9431102680, 06512441524


      14 जुलाई 2014 को 7:47 am को, Sarwat Ali <ali.s...@...> ने लिखा:

      There is no need for Vistar, this insistence and opposition of English is RSS agenda. Why Ashwinin can not talk about bilingualism and multilingualism , which NCF has proposed. 


      He is talking about Hindi as medium of instruction, please let me know where are the books in higher education in Hindi. Students who come to teacher training college and study in Hindi and Urdu medium hardly find good literature. Where as English medium student have no dearth of books. 

       It is dangerous to propagate for which nation is not ready. 


      2014-07-13 8:46 GMT-07:00 Dr.V.N. Sharma <vns...@...>:

      सरवत अली जी,

      ज़रा विस्तार में बताएं की अश्विनी के कौन से वाक्य से आरएसएस की एजेंडा बनती दिख रही है. और कॉमरेडों ने कौन से कदम उठाये हैं जिससे इस समस्या के समाधान में उनकी समझ और दिशा दिखे.  

      --
      डा वी एन शर्मा / Dr.V.N.Sharma
      Chairman, Federation of Retired SAIL Employees
      President, SAIL Ex-Employees Association
      Chairman, Jharkhand Vigyan Manch, Ranchi
      Academic Association with National Institute of Foundry & Forge Technology (NIFFT), Ranchi University in Env & Water Mgt.
      Cell No.9431102680, 06512441524


      13 जुलाई 2014 को 1:23 pm को, Sarwat Ali <ali.s...@...> ने लिखा:

      I have been reading your mails for quiet some time Ashwini on issues of language. I am disappointed with your approach, it endorses the agenda of RSS. 


      2014-07-12 13:58 GMT-07:00 Ashwini Singh <ashwini....@...>:



      2014-07-13 2:28 GMT+05:30 Ashwini Singh <ashwini....@...>:

      अंग्रेजीयत के वर्चस्व के विरुद्ध जन(भारतीय) भाषाओं के मुद्दे पर कामरेडो की चुप्पी खल रही है ।

      जबकि इस देश का सर्वहारा वर्ग अंग्रेजीयत के वर्चस्व से पीड़ित है । इस देश की 90 % आबादी अंग्रेजी से पूर्णतः अनभिज्ञ है । 6 % किसी प्रकार कामचलाऊ अंग्रेजी सीख जाते है। 3-4 % ही ठीक-ठाक अंग्रेजी का प्रयोग कर पाते है । देश की 1 % जनसंख्या ही अंग्रेजी भाषा पर नियंत्रण रखती है और वह ही इस देश की राजसत्ता और पूँजीसत्ता पर नियंत्रण रखती है । एक देश जहाँ पर प्रकृत रूप से अंग्रेजी नहीं बोली जाती है । वहाँ पर अंग्रेजी भाषा भर नहीं है, यह कृत्रिम भाषा (अंग्रेजी) सरकारी भाषा के रूप में राजसत्ता को अंग्रेजीदा बुर्जवा वर्ग तक ही समेटे रखने का साधन है । कृत्रिम भाषा (अंग्रेजी) को थोपना समाज को स्थाई रूप से मानसिक-पंगू बनाने का औजार है । अतः ऐसे देश में अंग्रेजी अधिसंरचना को बनाएं रखने वाले हथियार के रूप के रूप में राजसत्ता और पूंजीसत्ता के आधार को मजबूत करने साधन मात्र है ।   अंग्रेजी के माध्यम से ही शोषण की चक्की और गैर-बराबरी की मशीनरी को चलाया जाता है । भ्रष्टाचार की उमदा फसल को पैदा करने में भी अंग्रेजी का हाथ है ।

      सर्वहारा वर्ग को दबाने और कुचलने के लिए जिस भाषा(अंग्रेजी) का प्रयोग होता है । उस भाषा को लेकर यदि कामरेड नेता चुप है । यह चुप्पी सिर्फ चुप्पी नहीं साजिस है । यह इस बात को स्पष्ट करता है कि कामरेड नेताओं के वर्गीय हीत सर्वहारा वर्ग के साथ नही , अपितु शोषण के तंत्र को बनाए रखने वाले पूँजीवादी तंत्र के साथ जुड़े है । सर्वहारा नेता सर्वहारा वर्ग के हितैसी नहीं अपितु पूँजीवादी दलाल है । .. और ऐसी पार्टियाँ सेफ्टी वाल के रूप में सर्वहारा वर्ग की शक्ती को ही पथभ्रमित करने का काम करती है ।

       

       


      --

      ---
      आपको यह संदश इसलिए मिला है क्योंकि आपने Google समूह के "शिक्षा अधिकार अभियान Shiksha Adhikar Campaign" समूह की सदस्यता ली है.
      इस समूह की सदस्यता समाप्त करने और इससे ईमेल प्राप्त करना बंद करने के लिए, kitabcopy+...@googlegroups.com को ईमेल भेजें.
      इस समूह में पोस्ट करने के लिए, kita...@... को ईमेल भेजें.

      http://groups.google.com/group/kitabcopy पर इस समूह में पधारें.
      अधिक विकल्पों के लिए, https://groups.google.com/d/optout में जाएं.



      --
      Dr (Ms) Sarwat Ali
       Associate Professor,
      IASE, Jamia Millia Islamia  
      New Delhi - 110025

      09810525317






      --
      Dr (Ms) Sarwat Ali
       Associate Professor,
      IASE, Jamia Millia Islamia  
      New Delhi - 110025

      09810525317






      --
      Dr (Ms) Sarwat Ali
       Associate Professor,
      IASE, Jamia Millia Islamia  
      New Delhi - 110025

      09810525317


      --

      ---
      आपको यह संदश इसलिए मिला है क्योंकि आपने Google समूह के "शिक्षा अधिकार अभियान Shiksha Adhikar Campaign" समूह की सदस्यता ली है.
      इस समूह की सदस्यता समाप्त करने और इससे ईमेल प्राप्त करना बंद करने के लिए, kitabcopy+...@googlegroups.com को ईमेल भेजें.
      इस समूह में पोस्ट करने के लिए, kita...@... को ईमेल भेजें.

      http://groups.google.com/group/kitabcopy पर इस समूह में पधारें.
      अधिक विकल्पों के लिए, https://groups.google.com/d/optout में जाएं.

      --

      ---
      आपको यह संदश इसलिए मिला है क्योंकि आपने Google समूह के "शिक्षा अधिकार अभियान Shiksha Adhikar Campaign" समूह की सदस्यता ली है.
      इस समूह की सदस्यता समाप्त करने और इससे ईमेल प्राप्त करना बंद करने के लिए, kitabcopy+unsubscribe@... को ईमेल भेजें.
      इस समूह में पोस्ट करने के लिए, kitabcopy@... को ईमेल भेजें.
      http://groups.google.com/group/kitabcopy पर इस समूह में पधारें.
      अधिक विकल्पों के लिए, https://groups.google.com/d/optout में जाएं.



      --
      Dr (Ms) Sarwat Ali
       Associate Professor,
      IASE, Jamia Millia Islamia  
      New Delhi - 110025

      09810525317


      --

      ---
      आपको यह संदश इसलिए मिला है क्योंकि आपने Google समूह के "शिक्षा अधिकार अभियान Shiksha Adhikar Campaign" समूह की सदस्यता ली है.
      इस समूह की सदस्यता समाप्त करने और इससे ईमेल प्राप्त करना बंद करने के लिए, kitabcopy+unsubscribe@... को ईमेल भेजें.
      इस समूह में पोस्ट करने के लिए, kitabcopy@... को ईमेल भेजें.
      http://groups.google.com/group/kitabcopy पर इस समूह में पधारें.
      अधिक विकल्पों के लिए, https://groups.google.com/d/optout में जाएं.

      --

      ---
      आपको यह संदश इसलिए मिला है क्योंकि आपने Google समूह के "शिक्षा अधिकार अभियान Shiksha Adhikar Campaign" समूह की सदस्यता ली है.
      इस समूह की सदस्यता समाप्त करने और इससे ईमेल प्राप्त करना बंद करने के लिए, kitabcopy+unsubscribe@... को ईमेल भेजें.
      इस समूह में पोस्ट करने के लिए, kitabcopy@... को ईमेल भेजें.
      http://groups.google.com/group/kitabcopy पर इस समूह में पधारें.
      अधिक विकल्पों के लिए, https://groups.google.com/d/optout में जाएं.



      --
      Dr (Ms) Sarwat Ali
       Associate Professor,
      IASE, Jamia Millia Islamia  
      New Delhi - 110025

      09810525317


      --

      ---
      आपको यह संदश इसलिए मिला है क्योंकि आपने Google समूह के "शिक्षा अधिकार अभियान Shiksha Adhikar Campaign" समूह की सदस्यता ली है.
      इस समूह की सदस्यता समाप्त करने और इससे ईमेल प्राप्त करना बंद करने के लिए, kitabcopy+unsubscribe@... को ईमेल भेजें.
      इस समूह में पोस्ट करने के लिए, kitabcopy@... को ईमेल भेजें.
      http://groups.google.com/group/kitabcopy पर इस समूह में पधारें.
      अधिक विकल्पों के लिए, https://groups.google.com/d/optout में जाएं.


      --

      ---
      आपको यह संदश इसलिए मिला है क्योंकि आपने Google समूह के "शिक्षा अधिकार अभियान Shiksha Adhikar Campaign" समूह की सदस्यता ली है.
      इस समूह की सदस्यता समाप्त करने और इससे ईमेल प्राप्त करना बंद करने के लिए, kitabcopy+unsubscribe@... को ईमेल भेजें.
      इस समूह में पोस्ट करने के लिए, kitabcopy@... को ईमेल भेजें.
      http://groups.google.com/group/kitabcopy पर इस समूह में पधारें.
      अधिक विकल्पों के लिए, https://groups.google.com/d/optout में जाएं.




      --
      R.P.Shahi
      +919431114345
      Perfect Marketing,
      4/2, GEL Church Complex,
      Main Road
      Ranchi - 834001
      Ph:+919470580897

      --

      ---
      आपको यह संदश इसलिए मिला है क्योंकि आपने Google समूह के "शिक्षा अधिकार अभियान Shiksha Adhikar Campaign" समूह की सदस्यता ली है.
      इस समूह की सदस्यता समाप्त करने और इससे ईमेल प्राप्त करना बंद करने के लिए, kitabcopy+unsubscribe@... को ईमेल भेजें.
      इस समूह में पोस्ट करने के लिए, kitabcopy@... को ईमेल भेजें.
      http://groups.google.com/group/kitabcopy पर इस समूह में पधारें.
      अधिक विकल्पों के लिए, https://groups.google.com/d/optout में जाएं.

      --

      ---
      आपको यह संदश इसलिए मिला है क्योंकि आपने Google समूह के "शिक्षा अधिकार अभियान Shiksha Adhikar Campaign" समूह की सदस्यता ली है.
      इस समूह की सदस्यता समाप्त करने और इससे ईमेल प्राप्त करना बंद करने के लिए, kitabcopy+unsubscribe@... को ईमेल भेजें.
      इस समूह में पोस्ट करने के लिए, kitabcopy@... को ईमेल भेजें.
      http://groups.google.com/group/kitabcopy पर इस समूह में पधारें.
      अधिक विकल्पों के लिए, https://groups.google.com/d/optout में जाएं.



      --
      Dr (Ms) Sarwat Ali
       Associate Professor,
      IASE, Jamia Millia Islamia  
      New Delhi - 110025

      09810525317


      --

      ---
      आपको यह संदश इसलिए मिला है क्योंकि आपने Google समूह के "शिक्षा अधिकार अभियान Shiksha Adhikar Campaign" समूह की सदस्यता ली है.
      इस समूह की सदस्यता समाप्त करने और इससे ईमेल प्राप्त करना बंद करने के लिए, kitabcopy+unsubscribe@... को ईमेल भेजें.
      इस समूह में पोस्ट करने के लिए, kitabcopy@... को ईमेल भेजें.
      http://groups.google.com/group/kitabcopy पर इस समूह में पधारें.
      अधिक विकल्पों के लिए, https://groups.google.com/d/optout में जाएं.